Home » इंडिया » Manohar Lal Khattar says farmers don't have any issues, they are just focusing on unnecessary things
 

किसानों की हड़ताल पर खट्टर के कट्टर बोल- ये कोई मुद्दा नहीं, धमकाकर कर रहे अपना ही नुकसान

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 June 2018, 13:02 IST

देश के करीब 8 राज्यों के लाखों किसान अपनी विभिन्न मांगों को लेकर 10 दिनों की हड़ताल पर हैं. 1 से 10 जून तक 130 किसान संगठन शहरों में फल, सब्जियां, दूध आदि की सप्लाई नहीं कर रहे हैं. हजारों किसान 30 नेशनल हाईवे पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. लेकिन हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने किसानों के आंदोलन को बेकार बता दिया है.

आंदोलन को बेकार की चीज बताते हुए खट्टर ने कहा कि किसानों का ऐसा कोई मुद्दा है ही नहीं और वे बेकार की चीजों पर ध्यान लगाकर अपना ही नुकसान कर रहे हैं.

खट्टर ने कहा, "किसानों का हड़ताल जैसा कोई मुद्दा ही नहीं है. वे जो दूध और सब्जियां सड़क पर फेंक रहे हैं, बेचने से इनकार कर रहे हैं, इससे उन्हीं का नुकसान होना है. वे बेकार की चीजों में ध्यान लगाकर प्रदर्शन कर रहे हैं." खट्टर ने कहा कि किसानों के पास कुछ मुद्दा नहीं है. उनका मकसद, अनावश्यक ही मीडिया और लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचना है. 

पढ़ें- पूर्व चुनाव आयुक्त ने समझाया : चुनाव न लड़ने वाले राजनीतिक दल आखिर क्या करते है ?

बता दें कि पिछले साल मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में 6 जून को किसान आंदोलन के दौरान 6 किसानों की पुलिस गोलीबारी में मौत हो गई थी. इस घटना के एक साल पूरा होने पर देशभर में 1 जून से 10 दिन के लिए किसान आंदोलन हो रहा है. किसानों का कहना है कि एक साल में किसानों के हालात नहीं सुधरे हैं.

किसानों ने एक बार फिर कर्जमाफी, उत्पाद की बढ़ी कीमत और स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करने की मांग लेकर सड़कों पर प्रदर्शन करना शुरू किया है. अपनी बात सुनवाने के लिए किसान उन्हीं उत्पादों को सड़कों पर फेंक रहे है जिन्हें कई महीनों की मेहनत के बाद उन्होंने पैदा किया है.

First published: 2 June 2018, 13:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी