Home » इंडिया » Nuclear Strategy: Defence Minister Parrikar indicates India is not bound to wait for Nuclear Attack, may attack first
 

मनोहर पर्रिकर: हमारे हाथ बंधे नहीं, पहले भी कर सकते हैं परमाणु हमला

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2017, 8:23 IST
(ट्विटर)

भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय रिश्तों में बेहद तनाव के दौर के बीच रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने संकेत दिए हैं कि भारत को परमाणु हमले का इंतजार करने की नीति अपनाने के बजाए पहले हमले पर भी विचार को तैयार रहना चाहिए.

इससे पहले पाकिस्तान के रक्षा मंत्री उस्मान ख्वाजा ने सर्जिकल स्ट्राइक से पहले परमाणु हमले की धमकी देते हुए कहा था कि पाकिस्तान ने टैक्टिकल परमाणु हथियार सजाकर रखने के लिए नहीं बनाए हैं. हालांकि इसके बाद भारतीय सेना ने पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दे दिया.

'क्या विचार से खुद को बांधना चाहिए'

रक्षा मंत्री ने एक पुस्तक विमोचन समारोह में परमाणु रणनीति का जिक्र करते हुए कहा कि परमाणु हथियारों के पहले इस्ते़माल नहीं करने संबंधी नीति के बंधन में नहीं बंधना चाहिए.  

रक्षा मंत्री ने कहा, "अगर पहले से तैयार रणनीति का पालन किया जाए या आप परमाणु मुद्दे पर किसी रुख पर कायम रहते हैं तो मुझे लगता है कि आप परमाणु हथियारों के मामले में अपनी शक्ति को खो रहे हैं."

पर्रिकर ने बुक रिलीज कार्यक्रम के दौरान कहा, "लोग कहते हैं कि भारत, पहले परमाणु हथियार का इस्तेमाल नहीं करने के विचार को मानता है. हमें इस विचार से खुद को क्यों बांधे रखना चाहिए. इसके बदले मुझे यह कहना चाहिए कि हमारा देश एक जिम्मेदार परमाणु ताकत है और मैं गैरजिम्मेदाराना तरीके से इसका इस्तेमाल नहीं करूंगा. ऐसा मेरा मानना है."

'सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाक शांत'

हाल ही में भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ने के बाद परमाणु हमले की बात तक की जाने लगी थी. उरी में आतंकी हमला और सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है. एक महीने के दौरान पाकिस्तान ने 100 से ज्यादा बार युद्धविराम का उल्लंघन किया है.

पर्रिकर ने परमाणु नीति पर बदलाव से इनकार करते हुए कहा, "कुछ लोग कह सकते हैं कि भारत की परमाणु नीति में बदलाव आ गया है, लेकिन ऐसा नहीं है. पड़ोसी देश (पाकिस्तान) से इस तरह की धमकियां मिलती थीं वह परमाणु हथियारों का इस्तेमाल कर सकता है, लेकिन जिस दिन सर्जिकल स्ट्राइक हुआ उसके बाद से इस तरह की कोई धमकी नहीं आई है."

रक्षा मंत्री ने साथ पहले हमला न करने वाली नीति के उलट कहा, "कोई आपके बारे में पूर्वानुमान न लगा सके, यह रणनीति का हिस्सा है. हमारे पास पहले से तय चीजें होनी चाहिए. लेकिन निश्चित रूप से जब देश की सुरक्षा पर किसी तरह का खतरा होगा, तो मैं पहले से तय चीजों के बारे में नहीं सोचूंगा."

ट्विटर

रक्षा मंत्रालय ने बताया निजी विचार

इस बीच रक्षा मंत्री पर्रिकर का बयान आने के बाद रक्षा मंत्रालय ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. मंत्रालय ने इसे पर्रिकर का निजी विचार बताते हुए सफाई दी है.

रक्षा मंत्रालय ने बयान में कहा, "रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने जो कुछ कहा वह उनका निजी विचार है. यह आधिकारिक बयान नहीं है. रक्षा मंत्री ने जो कहा उसके मुताबिक भारत को एक जिम्मेदार परमाणु ताकत के तौर पर इसके पहले इस्तेमाल करने की चर्चा में नहीं पड़ना चाहिए."

भारत और पाकिस्तान दोनों देश परमाणु शक्ति संपन्न हैं. अब तक भारत की ओर से परमाणु हमले को लेकर कोई बयान नहीं आया था. लेकिन रक्षा मंत्री का ताज़ा बयान भारत-पाक के रिश्तों में बढ़ते तनाव का नतीजा माना जा रहा है.

First published: 11 November 2016, 10:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी