Home » इंडिया » Manohar Parrikar: Italian court clearly said that political corruption was 125 crore
 

मनोहर पर्रिकर: कांग्रेस बताए अगस्ता वेस्टलैंड डील में किसने ली घूस ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले को लेकर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार और कांग्रेस के बीच वार-पलटवार का सिलसिला तेज होता जा रहा है. इटली की मिलान कोर्ट ऑफ अपील्स का फैसला आने के बाद से देश की सियासत इस मुद्दे पर गरमाई हुई है.

इस बीच रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा, "इटली की अदालत ने साफ कहा है कि अगस्ता वेस्टलैंड डील में करीब 125 करोड़ का राजनीतिक भ्रष्टाचार हुआ था. अदालत ने कुछ नाम भी लिए हैं."
parrikar

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मनोहर पर्रिकर ने कहा, "बड़ा सवाल ये है कि रिश्वत किसने ली ? इसका जवाब पिछली सरकार को देना होगा."

वहीं बीजेपी नेता नलिन कोहली का कहना है कि कांग्रेस इस सवाल से जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रही है कि अगस्ता वेस्टलैंड डील में किसने घूस ली थी.

नलिन ने कहा कि एनडीए के कार्यकाल में अगस्ता वेस्टलैंड डील से जुड़ी एक भी चीज नहीं खरीदी गई. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) कुछ लोगों की जांच कर रहा है.

कांग्रेस का अमित शाह पर पलटवार

वहीं कांग्रेस ने बीजेपी के आरोपों पर पलटवार करते हुए मोदी सरकार पर सवाल उठाए हैं.

पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, "अगस्ता वेस्टलैंड एक धोखेबाज कंपनी है. अमित शाह जी मोदी सरकार से हमें बताएं कि इस कंपनी को 'मेक इन इंडिया' अभियान का हिस्सा क्यों बनाया गया."

parrikar 3


शाह ने सोनिया से पूछे थे सवाल


बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से अगस्ता वेस्टलैंड मामले में सवाल पूछे थे. अमित शाह ने सोनिया गांधी से अगस्ता वेस्टलैंड को दी गई 'रियायतों की संख्या' बताने को कहा था.

मीडिया के सामने सोनिया गांधी से सवाल करते हुए शाह ने कहा कि सौदे को अंतिम रूप देने के तुरंत बाद इतालवी मीडिया में घूस की खबरें आईं, लेकिन तत्कालीन यूपीए सरकार इसे रोके जाने वाले प्रावधान करने की बजाए आगे बढ़ी.

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अमित शाह ने कहा था कि मैं कांग्रेस अध्यक्ष से पूछना चाहता हूं कि बदलाव के पीछे कौन था? किसने सुनिश्चित किया कि कंपनी तकनीकी तौर पर योग्य थी? निविदा शर्तों में बदलाव के पीछे कौन जिम्मेदार था?

 

First published: 30 April 2016, 1:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी