Home » इंडिया » Arvind Kejriwal and Markandey Katju questioned the SIMI activists encounter in Bhopal
 

'यह मोदीराज है, फर्जी मुठभेड़, फर्जी मामले, लापता नजीब और गोरक्षकों की गुंडागर्दी'

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:47 IST
(फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस मार्कण्डेय काटजू ने सोमवार को भोपाल में सिमी कार्यकर्ताओं के एनकाउंटर पर गंभीर सवाल खड़े किए हैं. सिमी के आठ सदस्यों को भोपाल के बाहरी इलाके में जेल से फरार होने के बाद पुलिस ने एनकाउंटर में मार दिया था.

जस्टिस काटजू ने इस एनकाउंटर को फर्जी करार दिया है. फेसबुक पोस्ट के जरिए जस्टिस काटजू ने सिमी के संदिग्ध आतंकियों को मुठभेड़ में मारने का कड़ा विरोध किया है. जस्टिस काटजू ने लिखा, "जहां तक मुझे जानकारी हासिल है, भोपाल में हुआ कथित एनकाउंटर फर्जी है. जो भी इसके लिए जिम्मेदार है, ना केवल वो जिन्होंने इसे अंजाम दिया, बल्कि इस मुठभेड़ का आदेश देने वाले वरिष्ठ पुलिस अफसरों और नेताओं को फांसी की सजा मिलनी चाहिए. मेरी बेंच ने प्रकाश कदम और रामप्रसाद विश्वनाथ गुप्ता केस में ऐसा ही कदम उठाया था."

फेसबुक

'फांसी का फंदा इंतजार में'

जस्टिस काटजू ने फेसबुक पोस्ट में आगे लिखा, "दूसरे विश्वयुद्ध के बाद नूरेमबर्ग ट्रायल के दौरान नाजी युद्ध अपराधियों ने दलील दी कि ऑर्डर तो ऑर्डर होता है. लेकिन उनकी अपील को खारिज कर दिया गया और ज्यादातर को फांसी की सजा हुई. इसलिए जो पुलिस अफसर इस मुगालते में खुश हैं कि वे न्यायिक हत्या कर सकते हैं, उन्हें यह जान लेना चाहिए कि फांसी का फंदा उनके इंतजार में है."

वैसे जस्टिस काटजू इकलौते शख्स नहीं हैं, जिन्होंने भोपाल एनकाउंटर पर सवाल उठाए हैं. कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने न्यायिक जांच की मांग की है. इसके अलावा मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि इस बात की सुप्रीम कोर्ट को जांच करनी चाहिए कि फरार हुए कैदी कैसे अच्छे कपड़े पहन सकते हैं? 

'यह मोदीराज है'

इसके अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी मुठभेड़ की जांच सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में कराए जाने की मांग की.

केजरीवाल ने ट्विटर पर लिखा, "यह मोदीराज है. फर्जी मुठभेड़, फर्जी मामले. रोहित वेमुला, केजी बंसल, लापता नजीब, दलित उत्पीड़न, एबीवीपी, आरएसएस और गोरक्षकों की गुंडागर्दी."

First published: 1 November 2016, 10:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी