Home » इंडिया » martyr havaldar roshan lal family attacks on jammu kashmir mehbooba mufti govt says stone pelters are rewarded no time fo us
 

शहीद के परिवार का आरोप- 'महबूबा सरकार पत्थर चलाने वालों को देती हैं नौकरी, नहीं ली हमारी सुध'

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 February 2018, 13:39 IST

कश्मीर हमले में शहीद भारतीय जवान हवलदार रोशन लाल के परिवार ने जम्मू-कश्मीर की महबूबा सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है. शहीद हवलदार के परिवार का आरोप है कि महबूबा सरकार इनकी जरा भी सुध नहीं ले रही है जबकि सेना पर पत्थर चलाने वालों को राज्य सरकार नौकरी दे रही है.

हवलदार रोशन लाल की बेटी अर्तिका ने कहा कि उनके पिता की शहादत के बाद जम्मू-कश्मीर सरकार ने उनके परिवार को कोई फोन भी नहीं किया. अर्तिका ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, “मुफ्ती जी को तो सिर्फ कश्मीर नजर आता है, उन्हें जम्मू नहीं दिखता, उनसे हम क्या उम्मीद करें, हमें कोई फोन नहीं आया.”

 

हवलदार रोशन लाल के घर के बुजुर्ग भी महबूबा सरकार के रवैये से नाराज हैं. रोशन लाल के रिश्तेदार मुरारी लाल ने कहा कि यहां पर सिर्फ सियासत हो रही है. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के पास सेना पर पत्थर बरसाने वाले लोगों को बसाने के लिए टाइम है लेकिन शहीद होने वाले लोगों से मिलने के लिए राज्य सरकार के पास कोई वक्त नहीं है.

 

मुरारी लाल ने कहा, “सिर्फ सियासत हो रही है यहां, ये पत्थर मारने वाले को नौकरी देते हैं, घर बना के देते हैं, लेकिन जो बच्चे शहीद होते हैं, उनके लिए टाइम नहीं है.”

दरअसल 4 फरवरी को राजौरी में भीमबेर गली सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से की गई फायरिंग में हवलदार रोशनलाल शहीद हो गए थे. इस दौरान कैप्टन कपिल कुंदू, राइफलमैन रामअवतार, राइफलमैन शुभम सिंह भी शहीद हो गए थे.

First published: 19 February 2018, 13:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी