Home » इंडिया » Masood Azhar, Hafiz Saeed, Dawood and Lakhvi declared terrorists in new UAPA law
 

UAPA कानून के तहत मसूद अजहर, हाफिज सईद, दाऊद और लखवी आतंकवादी घोषित

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 September 2019, 17:15 IST

 नए आतंकवाद विरोधी कानून UAPA के तहत गृह मंत्रालय ने जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के प्रमुख मसूद अजहर, लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक (LeT) हाफिज मुहम्मद सईद, 1993 मुंबई बम धमाकों के मास्टरमाइंड दाऊद इब्राहिम और 26/11 आतंकी हमले के आरोपी जकी-उर-रहमान-लखवी को व्यक्तिगत आतंकवादी घोषित किया है. सरकार का यह फैसला गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम संशोधन (UAPA) विधेयक 1967 में संशोधन के एक महीने बाद आया है, जिसमें एक व्यक्ति को आतंकवादी नामित किया जा सकता है. 2 अगस्त को राज्यसभा इस विधेयक को पारित किया था.

गृह मंत्रालय (एमएचए) ने एक गजट नोटिफिकेशन जारी किया, जिसमें चार व्यक्तियों को UAPA 1967 की धारा 35 की उप-धारा (1) के तहत (आतंकवादी) घोषित किया गया. अजहर को नामित करने के लिए एमएचए ने 14 फरवरी के पुलवामा हमले सहित पांच आतंकवादी मामलों का उल्लेख किया जहां सीआरपीएफ के 40 जवान मारे गए थे. जबकि मौलाना मसूद अजहर विभिन्न मामलों में आरोपी है और राष्ट्रीय जांच एजेंसी द्वारा दर्ज किए गए मामलों की जांच की जा रही है. उसके खिलाफ पठानकोट एयर बेस अटैक मामले में चार्जशीट दायर की गई थी.

 

हाफिज सईद को चार मामलों में शामिल होने के लिए एक व्यक्तिगत आतंकवादी के रूप में नामित किया गया है. लाल किला हमला (2000), रामपुर हमला (2008), 26/11 मुंबई हमला (2008) और जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में बीएसएफ के काफिले पर हमला (2015) इसमें शामिल है. लश्कर के उप प्रमुख लखवी को भी 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले सहित चार मामलों में शामिल होने के लिए एक आतंकवादी के रूप में नामित किया गया है. 1993 के मुंबई सीरियल धमाकों की योजना बनाने वाले दाऊद इब्राहिम को भी एक व्यक्तिगत आतंकवादी के रूप में नामित किया गया है.

नए यूएपीए कानून के तहत में किसी व्यक्ति आंतकवादी गतिविधियों को अंजाम देने या उसमें भाग लेता है तो उसे आतंकवादी घोषित किया जा सकता है. इस कानून को 2004 के अंत में अमेंड किया गया था जब यूपीए सरकार थी. दूसरा संशोधन 2008 में और तीसरा अमेंडमेंट 2013 में किया गया था.

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था ''कोई अगर आंतकवाद के पोषण में मदद करता है, धन मुहैया कराता है, आतंकवाद के साहित्य का प्रचार-प्रसार करता है या आतंकवाद की थिअरी युवाओं के जहन में उतारने की कोशिश करता है, उसे आतंकवादी घोषित किया जाएगा'' .

कश्मीर पर पाकिस्तानियों की बौखलाहट नहीं हो रही है कम, लंदन में भारतीय उच्चायोग पर फेंके अंडे  

First published: 4 September 2019, 16:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी