Home » इंडिया » Mathaiamman temple is shifting for building highway in Tamilnadu
 

Flyover बनाने के लिए खिसकाया जा रहा है दो दशक से ज्यादा पुराना ये मंदिर, जानिए कैसे

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 April 2019, 14:11 IST
(प्रतीकात्मक फोटो)

इंजीनियरिंग ने आज हर काम को आसान कर दिया है. यही नहीं इंजीनियरिंग कई बार ऐसे कारनामे भी कर देती है जो किसी अजूबा से कम नहीं होते हैं. ऐसा ही कारनामा आजकल तमिलनाडु के नारायणपुरम में किया जा रहा है. जहां 21 साल पुराने एक मंदिर को खिसका कर दूसरे स्थान पर ले जाया जा रहा है.

दरअसल, मदुरै-नाथम एलिवेटेड राजमार्ग पर इन दिनों तेजी से काम चल रहा है. जिसपर एक फ्लाईओवर भी बनना है. मगर रास्ते में एक मंदिर आ जाने से फ्लाईओवर के काम को रोकना पड़ा. ये मंदिर 21 साल पुराना है. पहले इस मंदिर को तोड़ने की बात की गई. लेकिन इस बात से इंकार कर दिया गया. उसके बाद फैसला लिया गया कि 350 टन वजन के इस मंदिर को बिना तोड़े 25 फीट खिसकाया जाएगा.

अब मंदिर को खिसकाने के लिए नेपाल, बिहार और हरियाणा से इंजीनियर्स की कई टीम आई हैं. जो मंदिर को खिसकाने का काम कर रही हैं. मंदिर के पुजारी ए दामोदरन के मुताबिक मंदिर के 15 फीट हिस्से को तोड़ने की बात कही गई थी. मगर कमेटी ने अनुमान लगाया कि इसे तोड़कर दोबारा बनाने में लगभग 1.2 करोड़ रुपये का खर्च आएगा. जबकि शिफ्ट करने में 22 लाख रुपये ही खर्च होंगे.

वहीं इंजीनियर धर्मालिंगम का कहना है कि यह मंदिर 4,225 वर्ग फीट में बना हुआ है. मंदिर के शिखर को मिलाकर इसकी ऊंचाई 25 फुट है. मंदिर के लिए बगल में दूसरी जगह तैयार है. वहां इसे शिफ्ट किया जाएगा. बता दें कि इस मंदिर को उठाने के लिए 350 जैक लगाए गए हैं.

इस मंदिर को खिसकाने का काम बीते शुक्रवार से शुरु हो गया. तीन घंटे की कड़ी मेहनत के बाद मंदिर को तीन फुट ही खिसकाया गया है. अब इस मंदिर को 22 फुट और खिसकाया जाना है. बता दें कि फ्लाईओवर बनाने के लिए मंदिर को 15 फुट खिसकाया जाना था. मगर भविष्य में राजमार्ग पर होने वाले काम को देखते हुए प्रशासन ने इसे 25 फुट खिसकाने का फैसला लिया है.

First published: 7 April 2019, 14:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी