Home » इंडिया » Mathura violence: SC dismisses plea seeking CBI probe
 

मथुरा कांड की सीबीआई जांच की मांग खारिज

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:50 IST

मथुरा हिंसा को लेकर सीबीआई जांच की मांग वाली याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को खारिज कर दिया है. याचिका में गुरुवार को हुई हिंसा की सीबीआई जांच कराने के निर्देश देने का अनुरोध किया गया था.

वकील और बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय की याचिका को न्यायमूर्ति पीसी घोष और न्यायमूर्ति अमिताव राय की एक अवकाश पीठ ने आज के लिए सूचीबद्ध किया था. न्यायमूर्ति अमिताव राय ने आज सुनवाई करते हुए सीबीआई जांच की मांग ठुकराते हुए कहा कि यह मामला इलाहाबाद हाई कोर्ट में लंबित है.

अदालत ने कहा कि हर मामले में सीबीआई जांच के आदेश नहीं दिये जा सकते. यह राज्य सरकार का अधिकार है कि वह इस मामले में सीबीआई जांच की सिफारिश करती है या नहीं. यहां तक कि केंद्र सरकार भी अपनी तरफ से सीबीआई जांच के आदेश नहीं दे सकती.

'हर मामले में सीबीआई जांच नहीं'

सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी की, "इस मामले में सीबीआई जांच का आदेश तभी दिया जा सकता है जब यह साबित हो जाए कि राज्य सरकार जांच कराने में अक्षम है या रुचि नहीं ले रही है अथवा राज्य की जांच एजेंसी निष्पक्ष जांच नहीं कर रही है."

कोर्ट ने कहा कि याचिका में यह कहीं नहीं कहा गया है कि उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से जांच में कोई लापरवाही बरती जा रही है.

इससे पहले याचिकाकर्ता वकील अश्विनी उपाध्याय की ओर से पेश वकील कामिनी जायसवाल ने सोमवार को न्यायमूर्ति पीसी घोष और न्यायमूर्ति अमिताव रॉय की अवकाशकालीन पीठ के समक्ष इस मामले का उल्लेख करते हुए जल्द सुनवाई की गुहार लगाई थी.

जायसवाल ने कहा कि घटना से जुड़े सबूत नष्ट किए जा रहे हैं और करीब 200 वाहन पहले ही जलाए जा चुके हैं. इसलिए इस मामले की तत्काल सीबीआई जांच के आदेश दिए जाने चाहिए.

गौरतलब है दो जून को पुलिस बल मथुरा के जवाहर पार्क में कब्जा हटाने के लिए पहुंची थी. इस दौरान कब्जा करने वाले लोगों के साथ हुए टकराव में मथुरा के एसपी मुकुल द्विवेदी और एसओ संतोष कुमार यादव सहित 29 लोगों की मौत हो गई थी.

First published: 7 June 2016, 5:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी