Home » इंडिया » Mayawati: If PM can speak on Dalit issue outside Parliament then why can't he speak inside
 

मायावती: दलितों के मुद्दे पर पीएम संसद के बाहर बोल सकते हैं, तो अंदर क्यों नहीं?

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 7:46 IST
(एएनआई)

बसपा सुप्रीमो मायावती ने दलितों के मामले में पीएम मोदी के बयान पर निशाना साधा है. मायावती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दलितों के उत्पीड़न के मुद्दे पर संसद के बाहर बोलने पर सवाल खड़े किए हैं.

संसद के मानसून सत्र में अब महज दो दिन बचे हैं. लोकसभा में आज दलितों के उत्पीड़न के मुद्दे पर चर्चा होनी है. उससे ठीक पहले यूपी की पूर्व सीएम मायावती ने पीएम मोदी पर हमला बोला.

मायावती ने सवालिया लहजे में कहा, "अगर प्रधानमंत्री दलितों के उत्पीड़न के मुद्दे पर संसद के बाहर बोल सकते हैं, तो वह संसद में इस मामले पर क्यों नहीं बोल सकते?" 

इससे पहले पीएम मोदी ने हाल ही में दो बार गोरक्षा की आड़ में दलितों की पिटाई के मुद्दे पर अपना बयान दिया था. टाउन हॉल कार्यक्रम के दौरान पीएम ने कहा था कि कुछ लोग रात में गोरखधंधा करते हैं, जबकि दिन में गोरक्षक का चोला ओढ़कर दलितों की पिटाई को अंजाम देते हैं.

इसके अगले ही दिन तेलंगाना के गजवेल में भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कथित गोरक्षकों पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर हमला करना है तो उन पर करो, लेकिन मेरे दलित भाइयों को नहीं मारो.

पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि दलित समाज ने लंबे समय से उत्पीड़न झेला है, ऐसे में हमारी जिम्मेदारी बनती है कि उन्हें सुरक्षित रखा जाए. गुजरात के ऊना के बाद महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और उत्तर प्रदेश में भी गोरक्षा की आड़ में दलितों की पिटाई के मामले सामने आए हैं.

First published: 11 August 2016, 1:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी