Home » इंडिया » mayawati on ambedkar birth anniversary on lucknow
 

बाबा साहब से रोहित वेमुला को जोड़ना गलत:मायावती

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 April 2016, 11:45 IST

बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर की 125वीं जयंती पर लखनऊ के अंबेडकर पार्क में जनता को संबोधित करते हुए बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा कि बाबा साहब ने देश के विक्षिप्त और दबे-कुचले लोगों के लिए संघर्ष किया. बाबा साहब दलितों के भगवान और मसीहा हैं. 

मायावती ने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधते हुए कहा कि आज राजनीतिक दलों में उनका जन्मदिन मनाने की होड़ लगी हुई है. काग्रेस और बीजेपी दोनों ने ही बाबा साहब और बाबू जगजीवन राम के साथ बहुत बड़ा छल किया है.

इस दौरान मायावती ने कहा कि उन महापुरुषों को जो मान और प्रतिष्ठा मिलनी चाहिए थी. वो कांग्रेस और बीजेपी ने कभी नहीं दी. मान्यवर कांशीराम जी और हमने दलितों के हक की लड़ाई लड़ी. आज दलितों के बीच जो भी चेतना और संघर्ष का माद्दा पैदा हुआ, वो बसपा की देन है.

अंबेडकर जयंती पर मायावती के भाषण की खास बातें


1. राहुल गांधी ने रोहित वेमुला की तुलना बाबा साहब से की, जो सरासर गलत है. अगर राहुल गांधी को बाबा साहब से तुलना करनी ही है तो वह नेल्सन मंडेला से करें.

2. कांग्रेस केवल वोट बैंक की राजनीति करना जानती है. इसे दलितों से कोई लेना-देना नहीं है.

3. कांग्रेस ने एक दलित की बेटी को डराने के लिए सीबीआई का इस्तेमाल किया था और वही काम अब बीजेपी भी कर रही है. लेकिन मैं किसी से डरने वाली नहीं हूं.

4. केंद्र की मोदी सरकार ने आज तक दलितों को तो छोड़िये ओबीसी के भी कुछ नहीं किया.

5.कांग्रेस और बीजेपी की मानसिकता जातिवादी और सामंतवादी है.

6. कांग्रेस और बीजेपी केवल अपने छद्म स्वार्थों के लिए बाबा साहब के नाम का इस्तेमाल कर रही हैं.

7.  कांग्रेस और बीजेपी ये नहीं जानती की आज का दलित जागरुक है और सब कुछ समझ रहा है.

8. आज का दलित आत्महत्या नहीं करेगा बल्कि जातिवादी और सामंतवादी मानसिकता से मुकाबला करेगा.

9. विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने दलितों के खिलाफ विवादित बयान दिया लेकिन मोदी सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंगी.

10. पीएम मोदी ने वीके सिंह के खिलाफ कोई एक्शन नहीं ले कर दलितों को ये बता दिया कि वो आज भी मुख्यधारा से दूर हैं.

11. बीजेपी ने एक आपराधिक छवि वाले केशव प्रसाद मौर्या को अपना प्रदेश अध्यक्ष बनाकर लोगों के बीच भय का संदेश दिया है.

12. बीजेपी के इस कदम से बसपा और मेरे दलित भाइयों को कोई फर्क नहीं पड़ता. हम उनके खिलाफ मजबूती से लड़ेंगे.

13. यूपी की समाजवादी पार्टी की सरकार केवल लोहिया और जयप्रकाश नारायण के नामों को भुनाती है.

14. सत्ता में रहने पर सपा की सरकार परिवार के लोगों को सुख पहुंचाने का काम करती है.

15. प्रदेश की जनता ने देखा है कि जब-जब सपा की सरकार बनती है, गुंडागर्दी बढ़ जाती है. कानून-व्यवस्था खत्म हो जाती है.

16. सपा सरकार में अपराधी और गुंडे खुलेआम घूम रहे हैं. बसपा के राज में कानून-व्यवस्था में सुधार के लिए जो भी काम हुए थे. इस सरकार ने उसे बंद कर दिया.

17. उत्तर प्रदेश में आज हालात काफी खराब हैं. प्रदेश में जातिवाद और अपराध का बोलबाला है.

First published: 14 April 2016, 11:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी