Home » इंडिया » Mayawati: The few people who have left BSP are selfish, Swami Prasad Maurya is a traitor
 

मायावती: गद्दार और स्वार्थी हैं स्वामी प्रसाद मौर्य

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 June 2016, 13:38 IST
(फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने पार्टी से बगावत करने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य पर जोरदार हमला बोला है. लखनऊ में बसपा विधायकों की बैठक के बाद मायावती ने स्वामी प्रसाद को निशाने पर लिया.

लखनऊ में पार्टी कार्यालय मॉल एवेन्यू में मायावती ने विधायकों के साथ बैठक के दौरान नेता प्रतिपक्ष के नाम के साथ ही विधानसभा चुनाव पर भी चर्चा की.

मायावती ने कहा, "चंद लोगों ने स्वार्थ के लिए बसपा को छोड़ दिया. स्वामी प्रसाद मौर्य भी उनमें से एक हैं. वह एक गद्दार हैं."

'पार्टी को कोई फर्क नहीं'

मायावती ने कहा कि स्वामी प्रसाद मौर्य के पार्टी से छोड़ने पर उनके मिशन को कोई नुकसान नहीं पहुंचने वाला है. मायावती ने कहा, "स्वामी प्रसाद का पहले भी अंबेडकर और पार्टी आंदोलन से कोई मतलब नहीं था. बहुजन समाज स्वामी प्रसाद को कभी माफ नहीं करेगा."

मायावती ने इस दौरान कहा, "स्वामी प्रसाद मौर्य सिर्फ चिल्ला-चिल्लाकर हवाई बात करते हैं. उनके जैसों के जाने से पार्टी पर कोई फर्क नहीं पड़ता है. वह तो पुराना दल-बदलू है. लोकदल से मुलायम के साथ गया और फिर बसपा में आ गया."

'दामाद के टिकट की चाहत'

मायावती ने कहा, "स्वामी प्रसाद मौर्य उत्तर प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष का पक्ष नहीं रखते थे. लड़के और लड़की के बाद अब वह दामाद के टिकट के लिए परेशान थे. पार्टी के कुछ लोगों के कहने के बावजूद दो साल पहले उन्हें पार्टी से नहीं निकाला था. एक साल पहले उन्हें सुधर जाने की चेतावनी दी गई थी."

साथ ही मायावती ने इस दौरान कहा कि किसी एक व्यक्ति की गलती की सजा समाज को नहीं दी जाती है. पार्टी में हमेशा ही मौर्य, सैनी, शाक्य, और कुशवाहा समाज को सम्मान मिलता था और आगे भी मिलता रहेगा.

22 जून को स्वामी प्रसाद मौर्य ने पार्टी सुप्रीमो मायावती पर टिकटों की नीलामी का आरोप लगाते हुए राष्ट्रीय महासचिव पद से इस्तीफा दे दिया था. स्वामी प्रसाद उत्तर प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी थे.

First published: 25 June 2016, 13:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी