Home » इंडिया » MBBS gold medal winner docter frm gujrat become monk, took deekhsha
 

MBBS की गोल्ड मेडलिस्ट डॉक्टर बनी जैन साध्वी, त्यागी अरबों की संपत्ति

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 July 2018, 10:33 IST

गुजरात की एक डॉक्टर हिना दीक्षा ग्रहण करके साध्वी बन गई हैं. 28 साल की हिना हिंगड MBBS डॉक्टर है. इतना ही नहीं हिना मेडिकल में यानी MBBS में गोल्ड मेडलिस्ट भी हैं. हिना का परिवार अरबों की संपत्ति का मालिक है. ऐसे में हिना ने आध्यात्म को अपनाया है. घर की सारी सुख सुविधा और ऐशो-आराम छोड़ कर हिना ने जैन साध्वी बनने का निर्णय लिया. हिना हिंगड ने बुधवार को पूरे विधि विधान के साथ जैन साध्वी बनना स्वीकार किया. अब से हिना साध्वी श्रीविशारदमाला के नाम से जानी जाएंगी.

गुजरात के सूरत की रहने वाली हिना ने अपने आध्यात्मिक गुरु आचार्य विजय यशोवर्मा सुरेश्वरजी महाराज से दीक्षा ली. साध्वी बनने की पारंपरिक कार्यक्रम में हिना सांसारिक सुखों को त्याग कर साध्वी बनीं. हिना ने इसके लिए केश दान किये और सफ़ेद वस्त्र धारण किये. अब से हिना केवल श्वेत वस्त्रों को ही पहनेंगी.

ये भी पढ़ें- तेजस एक्सप्रेस का हुआ भगवाकरण, अब बदले अवतार में भरेगी रफ़्तार

परिवार नहीं था राजी
हिना 12 साल की उम्र से ही साध्वी बनना चाह रही थी. लेकिन इसके लिए उनका परिवार राजी नहीं था. लेकिन पूरे 12 सालों तक उन्होंने अपने परिवार को मानाया और अंत में परिवार के उनके इस फैसले को स्वीकार कर लिया. हिना ने इस दीक्षा लेने के लिए जरूरी 48 दिनों का ध्यान गुजरात के पालिताणा में किया. हिना के आचार्य का कहना है कि हिना ने ये फैसला उसके पिछले जन्म की वजह से किया है. पिछले जन्म में किये गए ध्यान और श्रद्धा की वजह से ही वो जैन भिक्षु बनने जा रही हैं.

 

छोड़ी सारी भौतिक सुविधाएं

हिना ने अपने घर परिवार की अरबों की संपत्ति को छोड़ दिया. दीक्षा लेकर हिना केवल 2 सफ़ेद कपड़ों में घर छोड़ आईं. हिना पिछले तीन साल से मेडिकल प्रैक्टिस कर रही थी. लेकिन आध्यात्म की तरफ अत्यधिक झुकाव के कारण उन्होंने अरबों की संपत्ति अपना मेडिकल कैरियर सब छोड़ दिया और जैन साध्वी बन गई.

First published: 19 July 2018, 10:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी