Home » इंडिया » Jayalalithaa,CM,Tamil Nadu,Health,Chennai,MDMK Chief,Vaiko,apollo hospital,health bulletin,Madras High Court,catch hindi
 

अस्पताल में हाल जानने के बाद बोले वाइको- 'जयललिता ठीक हैं, सेहत में सुधार जारी'

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 October 2016, 13:36 IST
(पीटीआई फाइल फोटो)

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता की सेहत को लेकर चल रहे सस्पेंस के बीच राज्य के बड़े नेता वाइको का बयान सामने आया है. वाइको ने जयललिता के स्वास्थ्य को लेकर उठ रहे सवालों को खारिज किया है.

वाइको ने चेन्नई के अपोलो अस्पताल में भर्ती सीएम जयललिता का हाल जाना. अस्पताल से बाहर निकलते हुए एमडीएमके अध्यक्ष वाइको ने कहा, "वह अच्छी हैं, उनकी सेहत में सुधार हो रहा है. उन्होंने कावेरी जल विवाद पर तमिलों के अधिकार की लड़ाई लड़ी और जीती है."

दो दिन पहले ही दिल्‍ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्‍स) के डॉक्‍टरों की एक टीम जयललिता के इलाज और देखभाल के लिए पहुंची थी. उनके साथ ही ब्रिटेन के एक विशेषज्ञ डॉक्‍टर भी मुख्‍यमंत्री के इलाज में जुटे हुए हैं.

सियासी हलचल तेज

मुख्‍यमंत्री जे जयललिता के चेन्नई के अपोलो अस्‍पताल में लंबे समय तक रहने के बाद तमिलनाडु की सियासत में हलचल तेज हो गई है. गर्वनर विद्यासागर राव ने शुक्रवार की शाम मुख्‍य सचिव समेत जयलिलता के विश्वासपात्र ओ पनीरसेल्वम सहित दो वरिष्‍ठ मंत्रियों से मुलाकात की.

खबरों के मुताबिक राज्‍यपाल राव ने जयललिता के स्‍वास्‍थ्‍य, राज्‍य के सामान्‍य प्रशासन और कर्नाटक के साथ कावेरी जल विवाद के बारे में जानकारी हासिल की. राज्य के मुख्य सचिव द्वारा गर्वनर को बताया गया कि इन विषयों पर सकारात्मक निर्णय लिए जा रहे हैं. 

इससे पहले राज्यपाल सी विद्यासागर राव भी कुछ दिनों पहले जयललिता को देखने अस्पताल गए थे और कथित रूप से एआईएडीएमके को हर रात 8 बजे उनकी सेहत को लेकर बुलेटिन जारी करने की सलाह दी थी.  

डिप्टी सीएम बनाने की अटकलें

एक बयान के मुताबिक वित्त मंत्री ओ पनीरसेल्वम, पीडब्ल्यूडी मंत्री ई पलानीस्वामी और मुख्य सचिव पी राममोहन राव ने राज्यपाल विद्यासागर राव से मुलाकात की. राज्यपाल ने जयललिता की सेहत की जानकारी ली. राज्यपाल ने राज्य सरकार के कामकाज के बारे में भी जानकारी मांगी. दोनों मंत्रियों और मुख्य सचिव ने उन्हें इस बारे में ब्रीफ किया.

जयललिता के खराब स्वास्थ्य के चलते सरकार और पार्टी को संभालने के लिए विकल्पों पर चर्चा तेज हो गई है. अटकलें हैं कि जब तक जयललिता अस्पताल से बाहर नहीं आती हैं, तब तक सरकार का कामकाज देखने के लिए राज्य में डिप्टी सीएम की निुयक्ति की जा सकती है.

First published: 8 October 2016, 13:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी