Home » इंडिया » Elvis Gomes, former bureaucrat and AAP's likely CM nominee in Goa
 

गोवा: एल्विस गोम्स को बनाया आम आदमी पार्टी ने मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार

निहार गोखले | Updated on: 8 October 2016, 7:19 IST
QUICK PILL
  • 19 साल तक गोवा में महत्वपूर्ण प्रशासनिक पदों पर रहे एल्विस गोम्स को राज्य में आम आदमी पार्टी ने मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया है.
  • कहा जाता है कि गोम्स के साथ राज्य में बड़ी नाइंसाफ़ी हुई है. कभी उनके सामने उनके जूनियरों को प्रोमोट कर दिया जाता है तो कभी वह भ्रष्टाचार के फर्ज़ी मामले में शिकार बना लिए जाते हैं.

लंबे समय से गोवा में आम आदमी पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में एल्विस गोम्स का नाम चर्चा में था. सोमवार को आम आदमी पार्टी ने इसकी औपचारिक घोषणा कर दी. गोम्स गोवा की प्रशासनिक सेवा में उच्च सरकारी पद पर रहे हैं.

कुछ समय पहले तक वे राज्य के महा निरीक्षक (कारागार) थे. दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने 5 अक्टूबर को उन्हें आम आदमी पार्टी में शामिल किया था. तभी से माना जा रहा था कि फरवरी या मार्च 2017 में होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव में आप की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश किया जाएगा.

गोम्स गोवा में एक जाने पहचाने अधिकारी हैं. वे गोवा प्रशासन के विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर रह चुके हैं. आईजी जेल के अतिरिक्त उनके पास शहरी विकास के निदेशक का अतिरिक्त प्रभार भी था. वे नगर निगम प्रशासन के निदेशक भी रह चुके हैं. पर्यटन विभाग के निदेशक और गोवा हाउसिंग बोर्ड के अध्यक्ष रह चुके हैं.

वे राज्य की राजधानी पणजी नगर निगम के आयुक्त और राज्य के बंदरगाहों के कप्तान के पद पर भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. गोवा फुटबाल संघ के अध्यक्ष के रूप में भी चुने गए थे.  आम आदमी पार्टी और राज्य की राजनीति में गोम्स का प्रवेश अधिक आश्चर्यजनक नहीं है. इसकी वजह यह है कि पिछले दो सालों से गोम्स का राज्य में भाजपा की सरकार के साथ टकराव चल रहा था.

गोम्स के साथ राजनीति हो चुकी है

भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए राज्य सिविल सेवा अधिकारियों के वरिष्ठ पदाधिकारियों की पदोन्नति के लिए उनके नाम संघ लोक सेवा आयोग को भेजे जाते हैं. गोम्स का नाम 2014 की सूची में सबसे वरिष्ठ अधिकारियों की सूची में दूसरे नंबर पर था, लेकिन इसके बावजूद, दो कनिष्ठ अधिकारियों को वरीयता देकर उनका नाम चौथें स्थान पर कर दिया गया.

इसके विरोध में गोम्स ने बंबई उच्च न्यायालय की गोवा पीठ में याचिका दायर की. उच्च न्यायालय ने जुलाई 2016 के अपने फैसले में उनके आरोप को सही ठहराया और वरिष्ठता सूची में बदलाव को खारिज कर दिया. तब तक, गोम्स अपने पद से पहले ही इस्तीफा दे चुके थे. हालांकि इस साल सितंबर में सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी है और मामले की सुनवाई कर रही है. इस बीच गोम्स का इस्तीफा स्वीकार कर लिया गया और 27 सितंबर को गोवा की सिविल सेवा से उनको मुक्त किया जा चुका है.

भ्रष्टाचार का केस भी राजनीति से प्रेरित

उनके पद से त्यागपत्र दिए जाने के समय के आसपास गोवा के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने गोम्स के खिलाफ एक प्राथमिक दर्ज की. गोवा हाउसिंग बोर्ड में उनके कार्यकाल के दौरान कथित अनियमितताओं के लिए इसमें उनको आरोपी बनाया गया है. इस पर बहुत से लोगों को अचरज हुआ क्योंकि यह मामला एक बहुत बड़े ‘भूमि घाटाले’ से संबंधित है और इसकी जांच भी चल रही थी. यह मामला जिस समय का है गोम्स विभाग में तैनात नहीं किए गए थे. यहाँ तक कि गोवा के उप मुख्यमंत्री फ्रांसिस डिसूजा ने भी इस विषय पर कहा कि गोम्स को राजनिति का शिकार बनाया गया है.

मेरे साथ खुलेआम नाइंसाफ़ी हुई

पार्टी में शामिल होने पर गोम्स कहा मैंने 19 साल से अधिक समय इस प्रशासन को बहुत नजदीक से देखा है. यहां मैने सरकारी पदों पर काम करने वालों पर बहुत अधिक अन्याय होता देखा है. हमें नहीं मालूम कि जनता के हितों के विपरीत वे किसे और क्यों खुश करना चाहते हैं. एक अन्य बयान में उन्होंने कहा है वर्तमान राज्य सरकार पूरी तरह से भ्रष्टाचार में लिप्त हो चुकी है.

गोवा एवरीडे के साथ अपने एक इंटरव्यू में उन्होंने अपने राजनीति में सम्मिलित होने के निर्णय का प्रधान कारण बताते हुए कहा मेरे साथ इतना बड़ा अन्याय जिस बेशर्मी के साथ खुलेआम अंजाम दिया गया तो किसी के साथ भी कुछ भी हो सकता है. तब मुझे एहसास हुआ कि मेरे जैसा व्यक्ति जो इतने लंबे समय तक इतने उच्च पदों पर रह चुका है उसके साथ जब यह हो सकता है तो किसी के साथ कुछ भी हो सकता है.'

उसी इंटरव्यू में, जब उनसे पूछा गया कि वह गोवा में ‘आप’ का चेहरा बनना पसंद करेंगे! उन्होंने  कहा अपने स्वभाव के अनुसार 'अगर मुझे कोई जिम्मेदारी सौपी जाती है तो मैं उसका निर्वाह करता हूं.'

पत्रकार राजदीप का नाम भी आ चुका है

इससे पहले वरिष्ठ टीवी पत्रकार राजदीप सरदेसाई के बारे में भी कुछ ऐसा ही सुना गया था. मई में उनके आप पार्टी में शामिल होने और गोवा के मुख्य मंत्री पद के प्रत्याशी के रूप में उनको लेकर अफवाह गर्म थीं. सरदेसाई का परिवार मूल रूप गोवा से ही संबंधित है. हालांकि सरदेसाई आप पार्टी में शामिल नहीं हुए और हाल ही में उन्होंने टीवी टुडे पर एक क्विज शो शुरू किया है.

मगर ऑस्कर रिबेलो सबसे लोकप्रिय

आप की ओर से मुख्यमंत्री पद के लिए संभावित एक अन्य उम्मीदवार के रूप में ऑस्कर रिबेलो का नाम भी आ रहा है. एक डॉक्टर, सक्रिय कर्मी और लोकप्रिय वक्ता के रूप में उनकी ख्याति है. वे राज्य में आप के सबसे लोकप्रिय चेहरा रहे हैं. बताया जाता है कि आप की गोवा इकाई ने सितंबर के मध्य मुख्यमंत्री के रूप में उनका नाम आगे बढ़ाया है. बहरहाल सितंबर के अंत में रिबेलो ने प्रेस के सामने अपने एक बयान में कहा था कि चुनाव लड़ने में उनकी कोई दिलचस्पी नहीं है.

रिबेलो की दौड़ से बाहर होने के बाद, गोम्स आप की ओर से मुख्यमंत्री पद के लिए संभावित चेहरा बन गए हैं. जो भी हो आम आदमी पार्टी की गोवा इकाई इससे काफी उत्साहित है. गोम्स के आप में सम्मिलित होने के बाद ट्विटर पर गोम्स की तस्वीर उनके बारे में और उनके कथनों को वह प्रचारित कर रही है.

मुख्यमंत्री पद के लिए आप की ओर से अन्य संभावित उम्मीदवार के रूप में जहां तक वाल्मिकी नायक का नाम है, वे गोवा में पार्टी के प्रभावी हैं. उनका मत जानने के बारे में प्रयास करने के बावजूद हालांकि उनसे संपर्क नहीं हो सका है, आप की ओर से हाल ही में घोषित एक प्रत्याशी ने कहा है. गोम्स का जो कद है उसे देखते हुए वे अधिक प्रभावी उम्मीदवार हैं. वे गोवा के प्रथम श्रेणी के अधिकारियों में से एक हैं और उन्होंने सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा कर पद छोड़ा है. जहां तक निर्णय का सवाल है पार्टी का नेतृत्व इस बारे में जल्द ही कोई फैसला करेगा.

First published: 8 October 2016, 7:19 IST
 
निहार गोखले @nihargokhale

Nihar is a reporter with Catch, writing about the environment, water, and other public policy matters. He wrote about stock markets for a business daily before pursuing an interdisciplinary Master's degree in environmental and ecological economics. He likes listening to classical, folk and jazz music and dreams of learning to play the saxophone.

पिछली कहानी
अगली कहानी