Home » इंडिया » Meeting with Army Chief and Defense Minister Nirmala Sitharaman
 

पुलवामा हमला: रक्षा मंत्री-सेना प्रमुखों के बीच बैठक शुरू, पाक पर कार्रवाई को लेकर हो सकती है चर्चा

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 February 2019, 14:28 IST

पुलवामा आतंकी हमले के बाद सोमवार को रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने तीनों सेना के प्रमुखों के साथ बैठक की.  रक्षा मंत्री पुलवामा हमले में शामिल आतंकवादियों को पाकिस्तानी समर्थन को लेकर थल सेना, वायु सेना और नौसेना के प्रमुख की भारतीय दूतावास के अधिकारियों के साथ बैठक शुरू कर दी है. ये बैठक दो दिनों तक चलेगी. 

इस बैठक में विभिन्न देशों में तैनात 44 डिफेंस अटैची शिरकत करेंगे. इस बैठक के बाद रक्षा मंत्री और तीनों प्रमुख अपनी तैयारियों की जानकारी प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और वित्त मंत्री की उच्चस्तरीय बैठक में साझा करेंगे.

कई मुद्दों पर होगी चर्चा

बैठक में पाक सीमा पर हालात सहित कई मुद्दों पर चर्चा हो सकती है. इसके साथ ही सरकार कुछ अहम सुरक्षा चुनौतियों को लेकर अधिकारियों से प्रतिक्रिया लेगी. बैठक में भारत चीन सीमा की स्थिति के साथ-साथ भारत के पड़ोस से जुड़े भू रणनीतिक मुद्दों पर भी चर्चा संभव है.

इसके अलावा बैठक में अमेरिका, रूस और अन्य मित्र देशों सहित दुनिया के महत्वपूर्ण देशों के साथ संबंधों पर विस्तृत चर्चा होगी. सैन्य संबंधों पर अपने विचार रखने के लिए विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि भी बैठक में शामिल होंगे.

पुलवामा हमले का कब लिया जाएगा बदला?

जम्मू-कश्मीर में हुए पुलवामा हमले आज 10 दिन से ज्यादा हो गया है. पूरे देश में इस हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ आक्रोश फैला है और चारों ओर पाकिस्तान से बदला लेने की बात चल रही है. इसी बीच देश की रक्षा मंत्री द्वारा तीनों सेनाओं के प्रमुखों के साथ बैठक कर रहीं है, जो काफी अहम माना जा रहा है. ऐसा अंदेशा लगाया जा रहा है कि इस बैठक में भारत पाकिस्तान के खिलाफ कोई बड़ा एक्शन लेगा.

दोस्तों से पैसे उधार लेना अब पड़ सकता है भारी, संपत्ति जब्त होने के साथ जा सकते हैं जेल 

फिर शुरू हुई बस सर्विस

पुलवामा हमले के बाद उरी जिले से पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) के मुजफ्फराबाद तक चलने वाली बस कारवां-ए-अमन की सेवा बंद कर दी गई, जिसे आज एक बार फिर शुरू कर दिया गया. इस सर्विस की शुरुआत 2005 में हुई थी, तब से लेकर अब तक इसकी सर्विस जारी है. हालांकि, कई बार जब दोनों देशों के बीच तनाव का माहौल बढ़ता है, तो इसकी सर्विस रोक दी जाती है.

शहीद DSP अमन ठाकुर ने देश पर मर-मिटने के लिए छोड़ दी थी दो-दो सरकारी नौकरियां

First published: 25 February 2019, 13:49 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी