Home » इंडिया » mehbooba mufti warns on article 35a says dont play with fire
 

महबूबा मुफ्ती की चेतावनी, कहा-35A पर हमला किया गया तो कश्मीर के लोग तिरंगा...

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 February 2019, 8:23 IST

अनुच्छेद 35ए जम्मू-कश्मीर के लोगों को विशेष अधिकार देती है, जिसकी वैधता को लेकर सुप्रीम कोर्ट में इस सप्ताह सुनवाई हो सकती है. सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई 26-28 फरवरी को सूचीबद्ध किया है.

माना जा रहा है कि पुलवामा हमले में 40 जवानों की शहादत के बाद मोदी सरकार 35A में कुछ बदलाव कर सकता है. जिसे लेकर जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कड़ी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने इसे लेकर चेतावनी देते हुए कहा कि यदि अनुच्छेद 35ए पर हमला किया गया तो उन्हें नहीं पता कि कश्मीर के लोग तिरंगे के बजाय कौन सा झंडा उठा लेंगे.

महबूबा मुफ्ती कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "आग से मत खेलें, 35ए का बाजा न बजाएं. अगर ऐसा हुआ तो आप वो देखेंगे जो 1947 से अब तक नहीं हुआ है. अगर इस पर हमला किया जाता है तो मैं नहीं जानती कि जम्मू कश्मीर के लोग तिरंगे की जगह कौन सा झंडा पकड़ने को मजबूर हो जाएंगे."

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अबदुल्ला ने भी इसे लेकर कहा था, "केंद्र और राज्यपाल की सिर्फ एक जिम्मेदारी बनती है कि वे चुनाव कराएं और लोगों को फैसला लेने दें. नई सरकार अनुच्छेद 35ए को बचाने के लिए खुद फैसला करेगी."

मालूम हो कि सुप्रीम कोर्ट में अनुच्छेद 35A की वैधानिक मान्यता को चुनौती देने वाली कई याचिकाओं पर सुनवाई पहले से ही चल रही है, लेकिन पुलवामा हमले के बाद एक बार फिर अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35A को हटाने की जोरदार मांग हो रही है. हालांकि जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने सुप्रीम कोर्ट में एक दिन पहले अपना रुख साफ किया है कि अनुच्छेद 35ए पर सिर्फ चुनी हुई सरकार ही फैसला ले सकती है.

सुप्रीम कोर्ट में अब 26 और 28 फरवरी को होगी धारा 35A की सुनवाई

First published: 26 February 2019, 7:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी