Home » इंडिया » Mehul Choksi has left Antigua again probe agencies searching in PNB fraud
 

मेहुल चोकसी एंटीगुआ से भी भागा और हाथ पर हाथ धरी रह गईं भारतीय जांच एजेंसियां

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 July 2018, 13:49 IST

भगोड़ा हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी एक बार फिर से जांच एजेंसियों की गिरफ्त में आने से पहले ही भाग निकला. हाल ही में जांच एजेंसियों को मेहुल के अमेरिका में होने की खबर मिली थी. जिसके बाद जांच एजेंसियां उसे पकड़ने के लिए और भी ज्यादा सक्रीय हो गई थीं. लेकिन तब तक उसने अमेरिका छोड़ दिया और कैरेबियन देश भाग गया.

भारतीय जांच एजेंसियों को उसके एंटीगुआ में होने की खबर मिली. जिसके बाद लगभग उसको पकड़ा ही जाने वाला था की जांच एजेंसियों को मुंह ही खानी पड़ी और मेहुल चोकसी फिर से भाग निकला. गौरतलब है कि मेहुल को पकड़ने के लिए भारत की तरफ से 'वैध अनुरोध' किया गया था. जिस पर एंटीगुआ सरकार ने संकेत दिए थे कि वो नीरव मोदी के मामा मेहुल को भारत वापस भेजने के लिए भारत के इस 'वैध अनुरोध' पर विचार करेगी.

 

खबरों की माने तो मेहुल ने एंटीगुआ की नागरिकता ले ली यही. लेकिन सवाल ये है की कैरेबियन देश की नागरिकता लेने के बाद अब वो भाग कार कहा छुपा है. और भारत के हाथ कब लगेगा. गौरतलब है कि ईडी द्वारा दायर चार्जशीट को लेकर प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट (PMLA) कोर्ट ने चौकसी के खिलाफ मार्च और जुलाई में गैर जमानती वॉरंट जारी किया था. लेकिन चौकसी पीएनबी घोटाले का खुलासा होने से पहले ही भारत छोड़ क्र भाग गया. चौकसी का मामा नीरव भी इसी केस में फरार है.

ये भी पढ़ें- मेहुल चोकसी का अपने कर्मचारियों को पत्र, कहा- कोई गलती नहीं की, लेकिन सैलरी नहीं दे सकता

नीरव मोदी ने 6 जनवरी को देश छोड़ दिया था और मोदी के मामा चोकसी ने 4 जनवरी को देश छोड़ कर भाग गया. सीबीआई को दी गई विभिन्न शिकायतों में पीएनबी ने दावा किया है कि उसके अधिकारियों द्वारा मोदी को कई लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (LOU) जारी किए गए, जिससे बैंक को भारी नुकसान हुआ है. पीएनबी ने मोदी और उसके समूह की कंपनियों द्वारा 13,500 करोड़ रुपये के घोटाले की सूचना दी थी, जिससे देश के बैंकिंग प्रणाली में बड़े पैमाने पर उथलपुथल मच गया.

ये भी पढ़ें- PNB घोटाला: CBI ने नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के खिलाफ निकाला गैरजमानती वारंट

First published: 27 July 2018, 8:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी