Home » इंडिया » #MeToo: Photographer accused for sexual harassment, Mumbai art gallery remove all the photos
 

#MeToo: फोटोग्राफर पर लगे यौन शोषण के आरोप, आर्ट गैलरी ने हटा दी सारी तस्वीरें

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 October 2018, 13:07 IST

#MeToo अभियान के चलते मुंबई के फोटोग्राफर शाहिद दतावाला पर यौन शोषण के आरोप लगे हैं. जिसके बाद मुंबई की आर्ट गैलरी 'तर्क' ने अपने यहां आयोजित प्रदर्शनी से शाहिद की सारी फोटो हटा ली हैं. मुंबई की इस आर्ट गैलरी में शाहिद की एक फोटो एक्सिबिशन का प्रोग्राम होना था. मुंबई रिपोर्ट की खबर के अनुसार 44 साल के फोटोग्राफर शाहिद पर अमाया दासगुप्ता ने आरोप लगाया कि जब वो 19 साल की थीं तब मुंबई में आयोजित हुए दो कार्यक्रमों के दौरान शाहिद ने उसे मोलेस्ट किया था.

इस आरोप के सामने आने के बाद हिना कपाड़िया जो कि गैलरी का संचालन करती हैं उन्होंने बताया कि तर्क गैलरी ने तुरंत ही शाहिद की फोटो प्रदर्शनी को बंद कर दिया. आगे उन्होंने कहा, ''प्रदर्शनी के उद्घाटन से पहले तर्क को शाहिद पर लगे इस आरोप के बारे में जानकारी नहीं थी. तर्क गैलरी में हर कोई पूरी तरह से इस मीटू आंदोलन का समर्थन करता है और इस परेशानी से गुजरे लोगों के साथ एकजुटता में खड़ा होता है.''

शाहिद पर आरोप लगाते हुए अमाया दासगुप्ता ने कहा, '' एक हाउस पार्टी में शाहिद में मुझसे ड्रिंक के लिए पूछा और मुहे अपनी तरफ खींचते हुए मेरी गर्दन पर काटने की कोशिश भी की.'' आगे दासगुप्ता ने कहा कि मेरे विरोध पर भी वो रुका नहीं. आगे अमाया ने बताया, ''मैं किसी तरह उसकी पकड़ से भागी और उस समय मैंने उसे उसके इस काम के लिए कुछ भी नहीं कहा. अगली सुबह जब उसने शाहिद से इस बारे में बात की तो उसने कहा कि उसे रात की कोई भी बात याद नहीं लेकिन अगर भूल में कुछ हुआ तो उसके लिए उसने माफ़ी मांगी. जिसे मैंने स्वीकार कर लिया.''

बेटी को जन्म देने के लिए इस्तेमाल की अपनी ही मां की 'कोख', पहली बार हुआ ऐसा चमत्कार

इसके बाद शाम को शाहिद ने फिर से उसके साथ जबरदस्ती की. अमाया ने बताया, ''शाम को फिर से उसने जबरदस्ती उसने मेरी उंगलियां अपने मुंह में डाल ली और किस करने लगा. इसके बाद मैं किसी तरह उससे अपना हाथ छुड़ा पाई.'' आगे अमाया ने बताया कि पूरे एक साल तक उसने शाहिद से कोई सम्पर्क नहीं रखा. उसे लगा कि वो सब कुछ भूल जाएगी और माफ़ कर देगी. अमाया कहती हैं, ''लेकिन में कुछ नहीं भूली और न ही माफ़ कर पाई.''

अमाया ने बताया कि 2012 में उनके पिता फोटोग्राफर प्रभुबुद्ध दासगुप्त की मृत्यु के बाद, शाहिद ने उन्हें अपनी गॉड डॉटर कहना शुरू कर दिया. सार्वजनिक रूप से माफ़ी मांगते हुए शाहिद ने कहा कि वो इन आरोपों से बुरी तरह से परेशान थे. एक फेसबुक पोस्ट में शाहिद ने कहा कि पहली घटना एक भूल थी जो कि समझ में गलती हो जाने के कारण हुई. इसके लिए मैंने अमाया से माफ़ी भी मांगीथी. और मुझे लगता है कि उस समय अमाया ने मेरी माफ़ी स्वीकार कर ली थी.

First published: 19 October 2018, 13:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी