Home » इंडिया » mha told to man, first to prove you are indian, after that we answer your question
 

इशरत जहां केस: आरटीआई आवेदनकर्ता से भारतीय होने का मांगा सबूत

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 June 2016, 17:09 IST
(एजेंसी)

इशरत जहां कथित फर्जी मुठभेड़ केस में एक आरटीआई पर गृह मंत्रालय ने अपने जवाब में याचिकाकर्ता से कहा है कि वह पहले यह साबित करे कि वह भारतीय है. इसके बाद ही उसे आरटीआई का जवाब दिया जाएगा.

याचिकाकर्ता ने गृह मंत्रालय में आरटीआई दाखिल करके पूछा है कि इशरत जहां फर्जी मुठभेड़ से जुड़ी फाइल कहां और कैसे गायब हो गई?

इस मामले में गृह मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव बी के प्रसाद जांच कर रहे हैं. गृह मंत्रालय ने इस मामले की जांच के लिए प्रसाद की अध्यक्षता में एक जांच समिति का गठन किया है.

मंत्रालय में दायर आरटीआई याचिका में समिति की ओर से पेश रिपोर्ट की प्रति के अलावा प्रसाद को दिये गए सेवा विस्तार से जुड़ी फाइल नोटिंग का ब्यौरा मांगा गया था.

इस मामले में गृह मंत्रालय ने अपने जवाब में कहा है, "इस संबंध में यह आग्रह किया जाता है कि आप कृपया अपनी भारतीय नागरिकता का सबूत प्रदान करें."

सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के तहत केवल भारतीय नागरिक ही सूचना मांग सकता है. इस पारदर्शिता कानून के तहत आमतौर पर आवेदन करने के लिए नागरिकता के सबूत की जरूरत नहीं पड़ती है.

असामान्य मामलों में एक जन सम्पर्क अधिकारी नागरिकता का सबूत मांग सकता है, अगर उसे आवेदन करने वाले की नागरिकता को लेकर कोई संदेह हो.

First published: 15 June 2016, 17:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी