Home » इंडिया » Ministry of Home Affairs under secretary Anand Joshi arrested by CBI
 

कोर्ट ने गृह मंत्रालय के अंडर सेक्रेटरी आनंद जोशी को 20 मई तक सीबीआई हिरासत में भेजा

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 May 2016, 18:53 IST

एनजीओ को फायदा पहुंचाने के आरोप में फरार गृह मंत्रालय के अवर सचिव आनंद जोशी को सीबीआई ने रविवार को हिरासत में ले लिया. पांच घंटे की पूछताछ के बाद जांच एजेंसी ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया.

गिरफ्तार करने के बाद आनंद जोशी को आज दिल्‍ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया. जहां कोर्ट ने उन्हें 20 मई तक सीबीआई कस्‍टडी में भेज दिया.

मंगलवार से फरार चल रहे आनंद जोशी को रविवार शाम पश्चिम दिल्ली के तिलक नगर इलाके से पकड़ा गया और पूछताछ के लिए सीबीआइ मुख्यालय ले जाया गया. 

पढ़ें:सीबीआई छापे के बाद गृह मंत्रालय के अंडर सेक्रेटरी लापता

जोशी से सीबीआई की विशेष अपराध शाखा के अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं. सीबीआइ प्रवक्ता देवप्रीत सिंह ने कहा कि सूचना के आधार पर जोशी को पश्चिम दिल्ली से शाम पांच बजे के करीब हिरासत में लिया गया.

एनजीओ को मदद पहुंचाने का आरोप

सीबीआई ने धन उगाही के उद्देश्य से कई गैर सरकारी संगठनों के खिलाफ मनमाने तरीके से विदेशी अंशदान नियमन अधिनियम (एफसीआरए) के तहत नोटिस जारी करने के आरोप में जोशी पर केस दर्ज किया था.

जोशी और एक अन्य अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ नौ मई को केस दर्ज किया गया था. सीबीआई ने ये मुकदमा गृह मंत्रालय के निर्देश पर आईपीसी की धारा 120-बी और प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत गृह मंत्रालय के निर्देश पर दर्ज किया था.

कई एनजीओ को मिलने वाले विदेशी चंदे से जुड़े कानून एफसीआरए में कथित धांधली के मामले में सीबीआई ने उनसे मंगलवार को पूछताछ की थी. जिसके बाद से वे गाजियाबाद के इंदिरापुरम स्थित अपने आवास से फरार हो गए थे.

क्लीन चिट देने का था दबाव !

आनंद ने घर छोड़ने से पहले पत्नी के नाम एक चिट्ठी भी छोड़ी थी, जिसमें उन्होंने कहा था कि पिछले कुछ महीने से उन्हें मानसिक तौर पर प्रताड़ित किया जा रहा है.

आनंद जोशी पर गलत ढंग से कई एनजीओ को नोटिस जारी कर उनसे रिश्वत लेने का आरोप है. इसके साथ ही उनपर तीस्ता सीतलवाड़ के एनजीओ से जुड़ी दो फाइलें गायब करने का भी आरोप है.

पढ़ें:क्या है घर से गायब हुए आईएएस आनंद जोशी का मामला?

दूसरी ओर जोशी ने अपने ऊपर लगे इन आरोपों को खारिज किया है. जोशी कहा कि वो बेगुनाह हैं और उन्हें फंसाया जा रहा है.

जोशी ने गृह मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव बीके प्रसाद पर आरोप लगाया कि उन्होंने कुछ गैर सरकारी संगठनों को क्लीन चिट देने का दबाव डाला था. हालांकि बी के प्रसाद ने आरोप से इनकार करते हुए कहा है कि सीबीआई सच्चाई का पता लगा लेगी.

First published: 16 May 2016, 18:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी