Home » इंडिया » Mob Lynching: Subhas Chandra bose grand nephew CK Bose tweet goat meat gandhi ji
 

सुभाष चंंद्र बोस के पोते बोले- हिंदू बकरी का मांस खाना करें बंद, गांधी जी मानते थे माता

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 July 2018, 15:20 IST

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के पड़पोते सी के बोस ने ट्वीट किया कि अगर लोगों को बीफ खाने पर मारा जाता है, तो उन्हें बकरी खाना भी छोड़ देना चाहिए. बोस ने कहा कि गाय को माता बताया जाता है और उसका मांस नहीं खाया जाता. इसी तरह बकरी भी तो दूध देती है. इसलिए बकरी को माता मानते हुए हिंदुओं को इसका मांस खाना छोड़ना चाहिए. गांधीजी भी बकरी का दूध पिया करते थे. 

सीके बोस ने कहा कि बीजेपी शासित राज्‍यों में गौरक्षा के नाम पर बढ़ रहीं मॉब लिंचिंग की घटनाओं से पूरा देश परेशान है. गांधीजी जब कोलकाता आते थे, तो वह मेरे बाबा शरत चंद्र बोस के वुडबर्न पार्क स्थित घर पर ही ठहरते थे. उन्‍होंने ही बकरी का दूध पीने की मांग की थी. इसलिए हिंदुओं को बकरी का मांस खाना बंद करना चाहिए.

हालांकि बोस के इस बयान के बाद विवाद होना शुरू हो गया. लोगों ने कहा कि महात्मा गांधी ने कभी भी बकरी को अपनी मां नहीं माना. हिंदू केवल गाय को अपनी मां मानते हैं. इस पर सीके बोस ने कहा कि लोगों को मेरे ट्वीट के पीछे कि सूक्ष्मता को समझना चाहिए. पूरा देश लिन्चिंग की बढ़ती घटनाओं से हैरान है.

पढ़ें-मॉब लिंचिंग: कमेटी की पहली मीटिंग में कानून बनाने पर हुई चर्चा, SC ने केंद्र सरकार को दिए थे आदेश

उन्होंने कहा कि देश में गाय आधारित जो राजनीति और बीजेपी शासित राज्यों में लिंचिंग चल रही है वो बेहद घटिया है. गांधी जी ने हमारे घर में रहते हुए बकरी के दूध पर बल दिया था. यह माना जा सकता है कि उन्होंने बकरी को मां की तरह माना. इस पर कोई विवाद या तर्क करने की जरूरत नहीं है.

First published: 28 July 2018, 15:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी