Home » इंडिया » Mobile phone banned in Colleges and University in Uttar Pradesh
 

यूपी के सभी कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में मोबाइल फोन के प्रयोग पर लगा प्रतिबंध

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 October 2019, 19:20 IST

योगी सरकार ने प्रदेश भर के डिग्री कॉलेजों और राज्य विश्वविद्यालय में मोबाईल फोन प्रयोग करने पर प्रतिबंध लगा दिया है. सरकार के इस आदेश को लेकर उच्च शिक्षा निदेशालय ने सभी राज्य विश्वविद्यालय को आदेश जारी कर दिया हैं तथा इस आदेश को सख्ती से लागू करने को कहा है. आदेश में कहा गया है कि डिग्री कॉलेजों द्वारा सरकार के इस कदम पर अमल करने की जिम्मेदारी विश्वविद्यालय की होगी.

सरकार के इस आदेश में डिग्री कॉलेजों और राज्य विश्वविद्यालय में फोन के प्रयोग पर पूरी तरह प्रतिबंध किया जा चुका है. सरकार के इस आदेश की खास बात यह हैं कि इसमें शिक्षकों को भी शामिल किया गया है. यानि शिक्षा लेने आए छात्र छात्राओं के साथ साथ शिक्षक भी अब डिग्री कॉलेजों और राज्य विश्वविद्यालय में फोन का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे.

दरअसल, सरकार के इस कदम के पीछे तर्क दिया गया है कि छात्र और छात्राएं कक्षाओं के अंदर भी फोन का प्रयोग करते है. अधिकांश समय छात्र-छात्राएं पढ़ने की जगह सोशल मीडिया साइट्स पर अपना ध्यान देते है. ऐसे में उनकी पढ़ाई का स्तर काफी गिर गया है. साथ ही इससे छात्र-छात्राओं का बहुमूल्य समय बर्बाद हो रहा है.

योगी सरकार के इस फैसले को ना मानते हुए अगर कोई भी राज्य विश्वविद्यालय और डिग्री कॉलेजों के परिसर के अंदर मोबाइल फोन प्रयोग करता है तो उसका फोन जब्त कर लिया जाएगा और छात्र-छात्राओं के अभिभावकों को बुलाकर चेतावनी देते हुए उनका फोन वापस दे दिया जाएगा.

हालांकि इस आदेश में इस छात्र-छात्राओं के फोन रखने पर पाबंधी नहीं लगाई गई है, यानि अगर किसी छात्र-छात्राओं के पास फोन पाया जाता है तो उसका फोन जब्त नहीं किया जाएगा. छात्र-छात्राओं की जब कॉलेज से छुट्टी हो जाए तो वो अपना फोन प्रयोग कर सकते है.

उच्च शिक्षा निदेशक डॉ. वंदना शर्मा ने इस मामले में मीडिया से बात करते हुए कहा कि सरकार के इस आदेश का कड़ाई से पालन हो इसके लिए सभी राज्य विश्वविद्यालय व डिग्री कॉलेजों में एक विभाग बनाया जाएगा जो इसकी निगरानी करेगा. साथ ही उन्होंने कहा कि सभी राज्य विश्वविद्यालय व डिग्री कॉलेजों में वायस रिकॉर्डिंग करने वाले सीसीटीवी कैमरे लगाएं.

डॉ. वंदना शर्मा ने बताया कि क्योंकि फोन को रखने पर किसी तरह का कोई प्रतिबंध नहीं है ऐसे में जिसके पास भी फोन हो वो उसे साइलेंट मोड पर ऱखे ताकि किसी तरह को कोई बाधा ना हो. सरकार के इस कदम का कितनी सख्ती से पालन होगा यह देखना भी दिलचस्प होने वाला है और छात्र-छात्राओं की शिक्षा में सरकार के इस कदम के बाद कोई सुधार आता भी है या नहीं यह भी दिलचस्प होगा.

BJP मुख्यालय की तुलना में ऊंचा होगा कांग्रेस का हेडक्वार्टर, निर्माण में करीब दो सौ करोड़ हुए हैं खर्च

First published: 18 October 2019, 18:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी