Home » इंडिया » Modi Government and ESIC will give two year salary in job loss under Atal Bimit Vyakri Kalyan Yojana
 

नौकरी जाने के बाद मोदी सरकार देगी 2 साल तक पैसा ! जानिए पूरी डिटेल्स

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 November 2019, 14:16 IST

प्राइवेट नौकरी करने वालों को हर दिन इस बात की चिंता सताती रहती है कि कहीं उसकी नौकरी ना चली जाए. ऐसे में नौकरी जाने के आर्थिक तंगी का खतरा भी मंडराने लगता है. ऐसे में मोदी सरकार आपकी मदद करेगी. यानी किसी वजह से अगर आपकी नौकरी चली जाती है तो मोदी सरकार आपको दो साल यानी 24 महीने तक पैसा देगी. दरअसल, कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESIC) 'अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना' के तहत नौकरी जाने पर कर्मचारी की आर्थिक मदद करती है. ESIC ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी दी है.

ESIC ने एक ट्वीट कर बताया कि रोजगार छूटने का मतलब आय की हानि नहीं है. ईएसआईसी रोजगार की अनैच्छिक हानि या गैर-रोजगार चोट के कारण स्थायी अशक्तता के मामले में 24 माह की अवधि के लिए मासिक नकद राशि का भुगतान करता है. इस योजना का लाभ उठाने के लिए कर्मचारी को आवेदन करना होता है. अगर आप भी अटल बीमित व्‍यक्ति कल्‍याण योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको ESIC की बेवसाइट पर जाकर फॉर्म डाउनलोड करना होगा. इस फार्म को भरकर आपको ESIC के किसी ब्रांच में जमा करना होगा.

जब आप इस योजना के तहत फॉर्म भरकत जमा करेंगे तो आपको फॉर्म के साथ 20 रुपये का नॉन-ज्‍यूडिशियल पेपर पर नोटरी से एफिडेविड करवाना होगा. इसमें AB-1 से लेकर AB-4 फॉर्म जमा करवाया जाएगा. ऑनलाइन सुविधा इसके लिए शुरू होने वाली है. इस योजना से संबंधित ज्यादा जानकारी के लिए ESIC की आधिकारिक वेबसाइट www.esic.nic.in पर विजिट करें. बता दें कि इस योजना का लाभ कर्मचारी को एक बार ही मिलेगा.

इसके साथ ही ESIC ने सुपर स्पेशियलिटी ट्रीटमेंट के नियम भी पहले के मुकाबले अब आसान कर दिए हैं. पहले इसके लिए 2 साल तक रोजगार में होना आवश्यक था जो अब कम कर केवल 6 महीना कर दिया गया है. वहीं योगादान की शर्त 78 दिनों की कर दी गई है. इस योजना का लाभ यानी ESIC से बीमित कोई भी ऐसा व्‍यक्ति जिसे किसी कारण से कंपनी से निकाल दिया जाता है या उस व्‍यक्ति पर किसी तरह का आपराधिक मुकदमा दर्ज होता है. ऐसे व्यक्ति को इस योजना का लाभ मिलेगा. वहीं जो लोग ऐच्छिक रिटायरमेंट (VRS) लेते हैं उन्‍हें इस योजना का लाभ नहीं मिल सकेगा.

ये भी पढ़ें

एजीआर पर SC के फैसले के खिलाफ Airtel और Vodafone Idea ने दायर की रिव्यू पिटीशन

स्मार्ट सिटी मिशन: अभी 25 फीसदी प्रोजेक्ट हुए कम्पलीट, इतना किया गया भुगतान

45 करोड़ के घाटे में है JNU, 450 संविदा कर्मचारियों को नहीं दे पा रहे सैलरी : प्रशासन

First published: 24 November 2019, 14:12 IST
 
अगली कहानी