Home » इंडिया » Modi government can soon introduce plastic notes or polymer currency, a minister revealed this in parliament
 

जल्द चलन में आ सकते हैं कई खूबियों वाले प्लास्टिक नोट!

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 December 2016, 17:35 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के ऐतिहासिक फैसले के बाद एक से बढ़कर एक नई खबरें सामने आ रही हैं. अब ताजा खबर है कि सरकार जल्द ही प्लास्टिक के नोट चलन में ला सकती है. संसद में शुक्रवार को इस संबंध में सूचना सामने आई.

शुक्रवार को वित्त राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने संसद में इसकी जानकारी देते हुए कहा कि अब प्लास्टिक की करेंसी छापी जाएगी. इसके लिए कच्चा माल खरीदा जा रहा है.

सरकार ने की कैशलेस पेमेंट के फायदों की घोषणाः पेट्रोल-डीजल, रेल टिकट, टोल प्लाजा, इंश्योरेंस में मिलेगी छूट

पिछले काफी लंबे वक्त से भारतीय रिजर्व बैंक प्लास्टिक करेंसी लॉन्च करने की योजना पर काम कर रही थी. सरकार द्वारा फरवरी 2014 में संसद में बताया गया था कि 10 रुपये की कीमत वाले 100 करोड़ प्लास्टिक के नोट छापे जाएंगे और इनके शुरुआती परीक्षण के लिए 5 शहरों को चुना गया है. इनमें कोच्चि, मैसूर, जयपुर, शिमला और भुवनेश्वर शामिल थे.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक पॉलीमर नोट के नाम से भी पुकारे जाने वाले प्लास्टिक से बने नोट, कागजी नोट की तुलना में काफी साफ-सुथरे होते हैं. जहां कागज के नोटों की औसत आयु करीब दो वर्ष होती है, प्लास्टिक के नोट इसकी तुलना में दोगुना तक ज्यादा यानी करीब 5 साल चलते हैं.

सरकार ने गहनों को किया टैक्स फ्रीः पत्नियों को आधा किलो और पतियों को 100 ग्राम सोना रखने की इजाजत

प्लास्टिक नोटों की एक अन्य खूबी इनकी सुरक्षा होती है जिसके चलते इसकी नकल करना आसान नहीं होता. जहां कागज के नकली नोट छापने के लिए पेपर प्रिंटिंग आसान होती है, प्लास्टिक पर प्रिंटिंग आसान नहीं होती. 

प्लास्टिक नोटों को पर्यावरण हितैषी भी बताया जा रहा है. एक शोध में पता चला कि कागजी नोट की तुलना में प्लास्टिक नोट से ग्लोबल वार्मिंग में 32 फीसदी की कमी और ऊर्जा की आवश्यकता 30 फीसदी कम हो जाती है. 

धांसू ट्रिक जो बताएगी आपके नजदीकी एटीएम की लोकेशन और उनमें मौजूद रकम

कागजी करेंसी की तुलना में हल्के प्लास्टिक नोट ट्रांसपोर्टेशन और डिस्ट्रीब्यूशन में भी आसान होते हैं. बताया जा रहा है कि ऑस्ट्रेलिया में सबसे पहले इन नोटों को प्रचलन में लाया गया. इसकी वजह नकली नोटों की परेशानी से निपटारा था.

First published: 9 December 2016, 17:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी