Home » इंडिया » Modi Government Enam Scheme near about 1.65 crore farmers registered know here everything about Enam scheme
 

मोदी सरकार की इस स्कीम से हुआ 1.65 करोड़ किसानों को फायदा, यहां मिलेगी पूरी जानकारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 October 2019, 16:07 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों को फायदे पहुंचाने के लिए कई तरह की स्कीम शुरु की थी, जिनमें किसानों की आमदनी दोगुनी करने करने वाली 'ऑनलाइन मंडी'स्कीम जबरदस्त हिट साबित हुई है. सरकार ने इस बारे में आंकड़े जारी किए हैं, जिसमें बताया गया है कि देशभर के करोड़ों किसान इस योजना से जुड़ चुके हैं.

सरकार ने किसानों के लिए शुरु की इस योजना को राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना (E-NAM) नाम दिया है. इससे पहले साल 2017 तक ई-मंडी से सिर्फ 17 हजार किसान ही जुड़े थे. बता दें कि ई-नाम एक इलेक्ट्रॉनिक कृषि पोर्टल है. जो पूरे भारत में मौजूद एग्री प्रोडक्ट मार्केटिंग कमेटी को एक नेटवर्क में जोड़ने का काम करती है. इस योजना का मकसद एग्रीकल्चर प्रोडक्ट के लिए राष्ट्रीय स्तर पर एक बाजार उपलब्ध करवाना है.

इस योजना का फायदा ज्यादा से ज्यादा किसानों को मिले इसके लिए सरकार ने खूब मेहनत की और इस योजना से किसानों के जुड़ने का सिलसिला तेज होता गया. बता दें कि नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट के जरिए कृषि उत्‍पादों का अधिक दाम मिलेगा, जिससे साल 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी हो जाएगी. बता दें कि आज देशभर में इंटरनेट से 585 मंडियां-ई-नाम के तहत जोड़ी गई हैं. इस योजना का टारगेट पूरे देश में एक मंडी से जोड़ना है.

यानी अगर कानपुर का कोई किसान राजस्थान में अपनी उपज को बेचता है तो कृषि उपज को लाने-ले जाने और मार्केटिंग करना आसान हो गया है. यानी इस व्यवस्था के लागू होे से किसान और खरीदार के बीच से ई-नाम ने दलाल खत्म कर दिए हैं. इसका लाभ न सिर्फ किसानों बल्कि ग्राहकों को भी मिलेगा. किसान और व्यापारियों के बीच के इस कारोबार में स्‍थानीय कृषि उपज मण्‍डी के हित को कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा, क्‍योंकि पूरा व्‍यापार उसके माध्‍यम से ही होगा.

बैंक कर्मियों के लिए खुशखबरी, दिवाली से पहले मिलेगा इतने दिनों का बोनस

First published: 5 October 2019, 16:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी