Home » इंडिया » Modi Government give extra subsidised rice wheat and sugar to poor family
 

नई सरकार बनाते ही देशवासियों पर मेहरबान मोदी सरकार, सस्ते दाम पर मिलेगा एक्स्ट्रा गेहूं-चावल और चीनी

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 June 2019, 12:14 IST

नई सरकार बनाते ही मोदी सरकार देश के गरीबों को बड़ा तोहफा देने जा रही है. सरकार गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले राशन कार्ड धारकों को प्रति महीने एक किलो अतिरिक्त चीनी, गेंहू और चावल दे सकती है. इससे देशभर के 16 करोड़ गरीब परिवारों को फायदा होगा.

दरअसल, फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के पास पिछले साल का काफी स्टॉक पड़ा हुआ है. वहीं, देश में जल्द ही मानसून के आसार हैं. मानसून आने से पहले पुराने स्टॉक को खत्म करना सरकार की मजबूरी है क्योंकि नये स्टॉक खुले में रखे हुए हैं.

इस वजह से खाद्य मंत्रालय ने मोदी सरकार के सामने यह प्रस्ताव पेश किया है. सरकार जल्द ही इस पर फैसला ले सकती है. इसके तहत जल्द ही स्टॉक खत्म करने के लिए अतिरिक्त अनाज और चीनी भी सब्सिडी पर दी जाएगी.

अभी देशभर के ढाई करोड़ परिवारों को अंत्योदय अन्न योजना के तहत 13.5 रुपये प्रति किलो की दर से चीनी दी जाती है. अभी पूरे देश में सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान से अनाज व चीनी लेने वालों की कुल संख्या 80 करोड़ है.

गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले लोगों को फिलहाल सरकार दो रुपये प्रति किलो की दर से गेहूं और तीन रुपये प्रति किलो की दर से चावल हर महीने 5 किलो अनाज उपलब्ध कराती है. राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत यह उपलब्धता सरकार कराती है.

अगर सरकार इस प्रस्ताव को पास करती है तो देश के खजाने पर 4727 करोड़ रुपये का अतिरिक्त भार पड़ेगा. पिछले हफ्ते हुई मोदी कैबिनेट की पहली बैठक में इस प्रस्ताव को पेश किया गया था. हालांकि खाद्य मंत्रालय की तरफ से पेश इस प्रस्ताव पर तब सहमति नहीं बन पाई थी. लेकिन प्रस्ताव पर एक बार फिर से काम करने के लिए कहा है. 

मायावती बोलीं- पत्नी को भी नहीं जिता पाए अखिलेश, यादवों का वोट BSP को ट्रांसफर नहीं हुआ

चुनाव खत्म होते ही सपा-बसपा गठबंधन में आई दरार ! उपचुनाव अकेले लड़ेंगी मायावती

First published: 4 June 2019, 12:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी