Home » इंडिया » Modi government launched a new website for DL registration and vehicle documents, no need of paper at traafic police
 

ट्रैफिक पुलिस मांगे आपका ड्राइविंग लाइसेंस तो दिखा देना अपना फोन लेकिन...

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 August 2018, 10:53 IST

मोदी सरकार ने डिजिटल इंडिया की तरफ एक और कदम बढ़ाते हुए बड़ा परिवर्तन किया है. इस कड़ी में केंद्र सरकार ने मोटर व्हीकल नियमों में बदलाव करके ड्राइविंग लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट, पॉल्यूशन सर्टिफिकेट जैसे डाक्यूमेंट्स को डिजिटल बना दिया है.

अब ट्रैफिक पुलिस को दिखाने के लिए आपको ड्राइविंग लाइसेंस और गाड़ी के कागजों को अपने साथ लेकर नहीं घूमना होगा. अब ट्रैफिक पुलिस डिजिटल डाटा के जरिये आपके ड्राइविंग लाइसेंस और गाड़ी के कागजों को चेक करेगी. भौतिक रूप से ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन पंजीकरण सर्टिफिकेट को साथ रखने की अनिवार्यता को सरकार ने खत्म कर दिया है.

इसी के साथ केंद्र सरकार ने गुरुवार को राज्यों को सलाह जारी की है कि वे इस प्रकार के सभी दस्तावेजों को डिजिलॉकर या एमपरिवहन प्लेटफार्म के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक फार्म में प्रस्तुत किए जाने पर स्वीकार करें. गौरतलब है कि इस व्यवस्था को लेकर कुछ राज्यों से शिकायत आई थी कि अधिकारियों द्वारा इन डिजिटल दस्तावेजों को मान्य नहीं किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- 'यमराज' ने सड़क पर उतर कर दिए जान बचाने के टिप्स, तस्वीरें हो रही वायरल

इस मामले में आधिकारिक बयान में कहा गया, "मंत्रालय को कई शिकायतें/आरटीआई आवेदन मिले हैं कि जहां नागरिकों ने शिकायत की है कि डिजिलॉकर या एमपरिवहन एप में उपलब्ध दस्तावेजों को ट्रैफिक पुलिस या मोटर वाहन विभाग द्वारा वैध दस्तावेज के रूप में स्वीकार नहीं किया जा रहा है."

अब केंद्र सरकार के निर्देश के बाद सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने राज्यों को कहा कि आधिकारिक प्लेटफार्मों के माध्यम से प्रस्तुत इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में लाइसेंस, पंजीकरण प्रमाण पत्र या अन्य दस्तावेज ड्राइविंग परिवहन प्राधिकरणों द्वारा जारी प्रमाणपत्रों के जितने ही मान्य होंगे.

कैसे करें अपने दस्तावेजों को डिजिटल 

सरकार ने इस नई व्यवस्था के लिए एक वेबसाइट बनाई है. इस वेबसाइट से डिजिलॉकर एप को डाउनलोड करने के बाद आप अपना डिजिलॉकर अकाउंट खोल सकते हैं. डिजिलॉकर की अन्य सेवाओं का लाभ उठाने के लिए आप अपना आधार नंबर भी दे सकते हैं.

ये भी पढ़ें- बेंगलुरु में 'यमराज' के बाद 'भगवान गणेश' ने सड़कों पर उतर कर किया ये काम

ये ऐप यह मंत्रालय के एमपरिवहन और ईचालान एप में भी दिखता है. एक आधिकारिक बयान में कहा गया, "एमपरिवहन या ईचालान एप पर वाहन के पंजीकरण विवरण के साथ अगर बीमा का विवरण भी उपलब्ध मिलता है तो बीमा सटिर्फिकेट के भौतिक प्रति की आवश्यकता नहीं है."

अपना ड्राइविंग लाइसेंस और गाड़ी के कागज़ रजिस्टर करने के लिए यहां क्लिक करें

First published: 10 August 2018, 10:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी