Home » इंडिया » Modi Govt going to make India's longest single free expressway, It will pass through 5 states
 

मोदी सरकार देने जा रही देश को बड़ी सौगात, बनाएगी देश का सबसे लंबा सिग्नल फ्री एक्सप्रेस-वे

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 January 2019, 13:19 IST

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले केंद्र की मोदी सरकार देशवासियों को सबसे बड़ा तोहफा देने जा रही है. मोदी सरकार देश का सबसे बड़ा सिग्नल फ्री एक्सप्रेस-वे बनाने जा रही है. इस एक्सप्रेस-वे से देश के पांच बड़े राज्य जुड़ेंगे. यह पीएम मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है और इस पर मार्च 2019 से काम चालू हो जाएगा.

यह एकसप्रेस-वे देश की राजधानी दिल्ली से देश की आर्थिक राजधानी मुंंबई तक बनेगी. इसका नाम दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे होगा. इसके निर्माण की तैयारी NHAI ने महज एक साल की भीतर ही पूरी कर ली है. प्रधानमंत्री मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट्स में से एक इस एक्सप्रेस-वे को एनएचएआई को तीन साल के भीतर पूरा करना है.

 

मोदी सरकार के इस ड्रीम प्रोजेक्ट दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस के बनने के बाद मुंबई से दिल्ली के बीच का सफर महज 12 घंटों में पूरा हो पाएगा. फिलहाल सड़क के रास्ते से दिल्ली से मुंबई जाने में 24 घंटे का वक्त लगता है. 60,000 करोड़ रुपए की लागत से यह एक्सप्रेस-वे बनेगा. यह एक्सप्रेसवे हरियाणा के मेवात और गुजरात के दाहोद जिले से होकर गुजरेगा.

पढ़ें- मोदी सरकार को बड़ी कामयाबी, दाऊद इब्राहिम का करीबी दानिश आया गिरफ्त में

इसके अलावा राजस्थान के कोटा जिले को भी यह एक्सप्रेस-वे टच करेगा. जिन मुख्य शहरों को यह एक्सप्रेस-वे टच करेगा उनमें दिल्ली, गुरुग्राम, कोटा, सूरत, वढ़ोदरा, गोधरा शामिल हैं. ये प्रोजेक्ट पूरी तरह से सरकारी फंड पर निर्भर है इसलिए जल्द ही इसका काम शुरू कर दिया जाएगा.

 

इस एक्सप्रेस-वे के बनने से दिल्ली से मुंबई के बीच की दूरी 1,450 किलोमीटर से घटकर 1,250 किमी हो जाएगी. एक्सप्रेस-वे हरियाणा के गुरुग्राम के राजीव चौक से शुरू होगा. इसके लिए 12000 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण एनएचएआई ने किया है. प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए एनएचएआई ने प्रोफेशनल्स हायर किए हैं, जो तीन साल के भीतर इस प्रोजेक्ट को पूरा करेंगे.

पढ़ें- इस पूर्व सांसद ने पढ़ाई के लिए छोड़ दी राजनीति, अब हॉस्टल में रहकर कर रहे हैं PhD

इस एक्सप्रेस-वे की सबसे खास बात यह है कि इसका अधिकतर भाग बिना उपजाऊ वाली जमीन के इलाके से गुजर रहा है, जिसकी वजह से भूमि अधिग्रहण में बहुत दिक्कत नहीं हुई है. हरियाणा में इस प्रोजेक्ट के लिए जमीन अधिग्रहण का काम पूरा हो चुका है. हरियाणा में इस एक्सप्रेसवे का 80 किलोमीटर लंबा हिस्सा पड़ता है.

First published: 8 January 2019, 13:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी