Home » इंडिया » modi govt leave to smriti irani, prakash javadekar taking charge
 

स्मृति ईरानी से छिना एचआरडी मंत्रालय, जावड़ेकर संभालेंगे जिम्मा

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 July 2016, 10:47 IST
(पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रिपरिषद में 19 नए मंत्रियों को शामिल करने के साथ ही सरकार का चेहरा बदल दिया है. मंत्रिपरिषद विस्तार के बाद हुए विभागों में फेरबदल में सबसे चौंकाने वाला नाम है स्मृति ईरानी का.

स्मृति ईरानी अब तक केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय का जिम्मा संभाल रही थीं. लेकिन विभागों में बदलाव के बाद उनसे एचआरडी का अहम मंत्रालय छीनकर कपड़ा मंत्रालय जैसे कम अहमियत वाले विभाग की कमान सौंपी गई है.  

मोदी सरकार ने अब इस मानव संसाधन मंत्रालय की कमान प्रकाश जावड़ेकर को दी है. मंगलवार को मंत्रिपरिषद विस्तार के दौरान जावड़ेकर का राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) से कैबिनेट मंत्री के रूप में प्रमोशन हुआ था.

मोदी सरकार के मंत्रिपरिषद विस्तार और फेरबदल के बाद मंगलवार रात इस बात की घोषणा की गई कि स्मृति ईरानी को मानव संसाधन विकास जैसे अहम मंत्रालय से हटाकर कपडा मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है.

विवादों में रहा कार्यकाल

गौरतलब है कि हैदराबाद में दलित छात्र रोहित वेमुला की खुदकुशी और जेएनयू विवाद जैसे मामलों की वजह से स्मृति ईरानी का दो साल का कार्यकाल विवादों में रहा है.

बहरहाल, ईरानी को महत्वहीन समझा जाने वाला कपडा मंत्रालय दिए जाने से यह कयास भी लगाए जा रहे हैं कि बीजेपी द्वारा 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में पार्टी के प्रचार का चेहरा बनाए जाने के लिए उनके मंत्रालय में बदलाव किया गया है. 

एचआरडी मंत्रालय में स्मृति ईरानी के दो साल के कार्यकाल ने मोदी सरकार की काफी किरकिरी कराई है. बीते दो साल में हैदराबाद यूनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला की खुदकुशी के अलावा मंत्रालय के कई फैसलों पर विपक्ष ने स्मृति ईरानी पर जमकर हमला किया था.

इसके साथ ही अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के अल्पसंख्यक दर्जे को लेकर भी स्मृति ईरानी के मंत्रालय की ओर से सुप्रीम कोर्ट में दिए हलफनामे पर विवाद उठा था. एचआरडी की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में कहा गया था कि संविधान में ऐसे किसी संस्थान को चलाने की इजाजत नहीं है.

इसके साथ ही स्मृति ईरानी अपने डिग्री के मामले में भी लगातार विपक्ष के सवालों के घेरे में रही थीं. स्मृति ने 2014 में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ अमेठी से लोकसभा चुनाव लड़ा था. हालांकि उन्हें चुनाव में शिकस्त का सामना करना पड़ा था.

First published: 6 July 2016, 10:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी