Home » इंडिया » modi Govt Looks To Utilise Private Vehicles In Car Pool Services to reduce traffic on road.
 

ख़ुशख़बरी...निजी कार मालिकों के लिए सरकार की नई सौगात

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 July 2017, 14:37 IST

मोदी सरकार निजी वाहन चालकों को बड़ी ख़ुशख़बरी दे सकती है. निजी वाहन चालक अब अपनी कारपूल करके पैसा भी कमा सकते हैं. सरकार ने सड़को पर वाहनों की बढ़ती समस्या और ट्रैफिक से निपटने के लिए इस योजना पर विचार कर रही है. 

मोदी सरकार जल्द प्राइवेट कार मालिकों को ओला और उबर टैक्सी की तरह राइड शेयरिंग की मंजूरी दे सकती है. पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली नीति आयोग ने राइड शेयरिंग कंपनी उबर से पार्टनरशिप की है. ये ओला और उबर जैसी कंपनियों के लिए अच्छी खबर हो सकती है, लेकिन टैक्सी ड्राइवरों के लिए परेशानी की बात हो सकती है.

इस योजना से जुड़े सरकार के एक अधिकारी ने बताया कि तीन महीने के लिए एक अध्‍ययन कराया जा रहा है, जो अभी अपने शुरुआती चरण में है. अध्‍ययन के बाद इस योजना को पूरे देश में बिना किसी समस्या के संचालन करने के लिए उचित ढांचा तैयार किया जाएगा.

सरकार के इस फैसले से भारत में कार बिक्री पर असर पड़ सकता है. हमारे देश में कार ओनरशिप अनुपात बहुत कम है . देश में अभी भी  1000 लोगों पर 20 कार हैं जो  दूसरे देशों की अपेक्षा बहुत कम है.

मारुति सुजुकी, हुंडई मोटर और टाटा मोटर्स जैसी बड़ी कंपनियों का अनुमान है कि साल 2020 तक भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा कार बाजार होगा. इस फैसले से उनको ज़बरदस्त झटका लग सकता है.

दुनिया के किन देशों में है ये सर्विस

उबर ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर जैसे देशों में पहले से ही प्राइवेट कारों को राइड शेयरिंग के लिए इस्तेमाल कर रही है. हालांकि नॉर्थ अमेरिका में उसे टैक्‍सी ऑपरेटर्स के विरोध का सामना करना पड़ा था.

First published: 6 July 2017, 14:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी