Home » इंडिया » MODI GOVT NOT SHARE SURGICAL STRIKE INFORMATION
 

कांग्रेस और केजरीवाल को मोदी सरकार का जवाब, नहीं देंगे सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 October 2016, 13:22 IST
(एजेंसी)

पाक अधिकृत कश्मीर में घुसकर सेना के द्वारा किये गए सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर मोदी सरकार ने साफ कर दिया है कि इस मामले में कोई भी जानकारी सार्वजनिक नहीं की जाएगी.

केंद्र सरकार का मानना है कि अगर भारत की ओर से सबूतों को सार्वजनिक किया जाएगा तो इससे पाक सेना पर दबाव बढ़ेगा और वह काउंटर रिएक्शन कर सकता है.

एक अंग्रेजी समाचार पत्र में छपी खबर के अनुसार, सरकार से जुड़े सूत्रों का कहना है कि फिलहाल भारत की युद्ध में कोई रूचि नहीं है. लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम लडेंगे नहीं. अगर हम पर युद्ध थोपा जाता है तो हम उसे जरूर जीतेंगे.

सूत्रों के मुताबिक सेना की सर्जिकल स्ट्राइक से पहले अमेरिका को सरकार ने कोई सूचना नहीं दी थी. सूत्रों का कहना है कि उस दिन अमेरिकी सुरक्षा सलाहकार सुसैन राइस और अजित डोभाल के बीच फोन पर बातचीत हुई थी लेकिन उस समय भी सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में कोई विशेष जानकारी नहीं दी गई थी.

गौरतलब है कि उरी में सेना के कैंप पर हुए आतंकी हमले के बाद भारत ने पीओके में घुसकर आतंकियों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक किया था. जिसे पाकिस्तान के द्वारा खारिज कर दिया गया था.

जिसके बाद दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने मोदी सरकार की सराहना करते हुए उन्हें सैल्यूट तो किया, लेकिन साथ ही सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांग कर एक राजनीतिक शगूफा भी छोड़ दिया.

जिसके बाद केजरीवाल के शगूफे को कांग्रेस के संजय निरूपम ने लपक लिया और सेना की कार्रवाई को फर्जी करार दिया था. जिसके बाद बीजेपी और अन्य दलों ने केजरीवाल और निरूपम को बयान की कड़ी आलोचना की.

First published: 12 October 2016, 13:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी