Home » इंडिया » Modi Govt reduced interest rate on money of PF Account six crore employees will effected
 

मोदी सरकार का 6 करोड़ PF खाताधारकों को झटका, ब्याज दरों में की इतनी कटौती

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 March 2020, 14:10 IST

Modi Govt reduced interest rate of PF Account: अगर नौकरी करते हैं और आपका पीएफ अकाउंट (PF Account) है तो आपके लिए झटका देने वाली खबर है. दरअसल, मोदी सरकार ने पीएफ खातों पर मिलने वाली ब्याज दरों में कटौती कर दी है. मोदी सरकार के इस फैसले से कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के करीब छह करोड़ अंशधारकों के लिए बड़ा झटका लगा है. बता दें कि वर्तमान में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन अपने सदस्यों को उनकी भविष्य निधि (PF) पर 8.65 फीसदी ब्याज देता है.

मोदी सरकार में इसमें 0.15 फीसदी की कटौती की है, कटौती के बाद अब पीएफ खातों पर 8.5 प्रतिशत ब्याज मिलेगा. बता दें कि ये जानकारी केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने दी है. बता दें कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) निवेश पर कम रिटर्न मिलने की वजह से पहले से संभावना जताई जा रही थी कि 5 मार्च को सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज की बैठक में प्रोविडेंट फंड (PF) जमा पर ब्याज दर घटाने का फैसला लिया जाएगा. बता दें कि लॉन्ग टर्म एफडी, बॉन्ड और सरकारी प्रतिभूतियों से ईपीएफओ को मिलने वाले रिटर्न में सालभर में 50-80 बेसिस पॉइंट्स की कमी आई है. इसके बाद पीएम अकाउंट पर मिलने वाली ब्याज दरों में कटौती कर दी गई है.


गौरतलब है कि, वित्त मंत्रालय, श्रम मंत्रालय पर इस बात के लिए पिछले कुछ समय से दबाव बना रहा था कि ईपीएफ पर ब्याज दर को सरकार द्वारा चलाई जाने वाली अन्य लघु बचत योजनाओं जैसे भविष्य निधि जमा (PPF) और डाकघर बचत योजनाओं के समान किया जाए. बता दें कि किसी वित्त वर्ष में ईपीएफ पर ब्याज दर के लिए श्रम मंत्रालय को वित्त मंत्रालय की सहमति लेनी होती है. इसके लिए भारत सरकार गारंटर होती है ऐसे में वित्त मंत्रालय को ईपीएफ पर ब्याज दर के प्रस्ताव की समीक्षा करनी होती है, जिससे ईपीएफओ आमदनी में कमी की स्थिति में किसी तरह की देनदारी की स्थिति से बचा जा सके.

बता दें कि वित्तवर्ष 2018-19 में पीएम खातों पर 8.65 प्रतिशत की दर से ब्याज मिलता था. वहीं वित्तवर्ष 2017-18 में ये दर 8.55 प्रतिशत थी. उससे पहले वित्तवर्ष 2016-17 में 8.65 की दर से ही ब्याज मिलता था. लेकिन वित्तवर्ष 2015-16 में ये दर सबसे अधिक 8.8 प्रतिशत थी. वहीं वित्तवर्ष 2014-15, 2013-14 में ये दर 8.75 थी, उससे पहले वित्तवर्ष 2012-13 में पीएफ खातों पर ब्याज 8.5 की दर से मिलता था.

राशन कार्ड को लेकर मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, नहीं बनवाना पड़ेगा नया कार्ड

UN रिपोर्ट में खुलासा : कोरोना से भारत की इकोनॉमी पर पड़ सकता है 348 मिलियन डॉलर का असर

BSNL का धमाकेदार प्रीपेड प्लान, अब रोज मिलेगा 5GB डाटा

First published: 5 March 2020, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी