Home » इंडिया » Modi has misused Gujaratis and Patidars, says Hardik Patel
 

मोदी 2002 दंगे का लाभ उठाकर पहले सीएम और बाद में देश के पीएम बने: पटेल

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 August 2016, 18:26 IST

गुजरात में पटेल समुदाय के लिए आरक्षण के लिए आंदोलन करने वाले हार्दिक पटेल ने गुजरात दंगों (2002) के दोषी पटेलों की रिहाई की मांग की है. इसके लिए हार्दिक पटेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र को पत्र लिखा है. हार्दिक पटेल ने आरोप लगाया है कि पीएम मोदी ने गुजरातियों खासकर पाटीदारों का गलत इस्तेमाल किया है.

पत्र में उन्होंने पटेल समुदाय के उन 102 लोगों के नाम शामिल किए हैं, जिन्हें 2002 के दंगों के विभिन्न मामलों में दोषी साबित किया गया है और उम्र कैद की सजा सुनाई गई है.

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाया कि वो इन युवाओं को रिहा नहीं करवाएंगे, क्योंकि पीएम मोदी दुनिया के सामने खुद को धर्मनिरपेक्ष नेता के रूप में पेश करना चाहते हैं.

पटेल ने पत्र में लिखा है, 'सभी जानते हैं कि मोदी 2002 दंगे का लाभ उठाकर पहले मुख्यमंत्री और बाद में देश के प्रधानमंत्री बने हैं.'

हार्दिक पटेल ने लिखा है, 'ये सभी पटेल युवा गुजरात की में सड़ रहे हैं. मोदीजी अभी प्रधानमंत्री हैं. वो फिलहाल राष्ट्रपति से सिफारिश कर सकते हैं कि पटेल युवाओं को छोड़ दिया जाए.'

हार्दिक पटेल फिलहाल राजस्थान के उदयपुर में रह रहे हैं. पिछले महीने उन्हें गुजरात हाईकोर्ट ने जमानत दी थी. लेकिन हाईकोर्ट ने आदेश किया कि पटेल को छह महीने राज्य से बाहर रहना होगा.

पिछले साल 25 अगस्त को हार्दिक पटेल ने पटेलों को ओबीसी कैटेगरी में शामिल करने के लिए आंदोलन शुरू किया था. पाटीदारों की एक बड़ी रैली के दौरान हिंसा भड़क उठी थी, जिसमें करोड़ों रुपयों की निजी और सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचा था. इसके अलावा एक पुलिसकर्मी समेत 11 लोगों भी मारे गए थे.

इसके बाद हार्दिक पटेल को राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया गया और उन्हें नौ महीने जेल में बिताने पड़े.

First published: 27 August 2016, 18:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी