Home » इंडिया » Modi in china and China-India trade volume rises 15% to $22.1 billion in Q1
 

डोकलाम विवाद नहीं आया आड़े, बीती तिमाही में भारत और चीन के व्यापार में रिकॉर्ड इजाफा

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 April 2018, 11:46 IST

भारत और चीन के बीच भले सीमा विवाद को लेकर गर्मागर्मी रही हो लेकिन दोनों का व्यापार लगातार बढ़ता जा रहा है. पिछले साल दोनों देशों के बीच 84.44 अरब डॉलर का व्यापार हुआ था जो इस साल की पहली तिमाही में और मजबूत हो गया है. इस साल की पहली तिमाही में दोनों के बीच द्विपक्षीय व्यापार 15.4 फीसदी बढ़कर 22.1 अरब डॉलर हो गया.

चीन के वाणिज्य मंत्रालय के प्रवक्ता गाओ फेंग का कहना है कि पिछले साल की तुलना में व्यापार की गति में वृद्धि हुई है. जब द्विपक्षीय व्यापार 84.4 अरब डॉलर के रिकॉर्ड उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था.गाओ ने कहा, "दो बड़े विकासशील देशों और दुनिया की उभरती अर्थव्यवस्थाओं के रूप में चीन और भारत दोनों के पास एक बड़ा घरेलू बाजार है. दोनों देशों की अर्थव्यवस्थाएं एक दूसरे के लिए अत्यधिक पूरक हैं.

उन्होंने कहा "2017 के अंत तक भारत में चीनी निवेश 8 अरब डॉलर से अधिक हो गया क्योंकि चीनी कंपनियों और इंफ्रास्ट्रक्चर निवेश के लिए एक महत्वपूर्ण बाजार बन गया है.

शुक्रवार को केंद्रीय चीनी शहर वुहान में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच दो दिवसीय अनौपचारिक शिखर सम्मेलन में दोनों देशों के बीच 50 बिलियन डॉलर से अधिक ट्रेड डेफिसिट सहित कई मुद्दों पर बातचीत होने की उम्मीद है.

भारत में चीनी निर्यात भारतीय निर्यात का लगभग 40 प्रतिशत ज्यादा है जो 16.34 अरब डॉलर के करीब है. 2017 में यह 84.44 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया, जो 2016 में पंजीकृत 71.18 अरब डॉलर था. चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) समेत कई मुद्दों पर द्विपक्षीय तनाव के बावजूद दोनों देशों के बीच व्यापार ने ऐतिहासिक स्तर को छुआ.

ये भी पढ़ें :'सनकी तानाशाह' का बड़ा कदम, धुर-विरोधी दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति से मिले किम जों

First published: 27 April 2018, 11:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी