Home » इंडिया » Modi-Xi meeting: Temple will go with Modi, no agreement is expected
 

चीनी राष्ट्रपति मोदी संग जायेंगे 7वीं शताब्दी के शोर मंदिर, मीडिया को नहीं देंगे संयुक्त बयान

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 October 2019, 11:22 IST

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दूसरे भारत-चीन अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के लिए शुक्रवार को चेन्नई पहुंचेंगे. अपनी यात्रा से दो दिन पहले चीन के राष्ट्रपति बीजिंग में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मिले थे. इस दौरान उन्होंने जम्मू-कश्मीर के हालात के बारे में चर्चा हुई. मोदी और शी तमिलनाडु के ममल्लापुरम में 7वीं शताब्दी के शोर मंदिर जाएंगे. चीनी राष्ट्रपति के दोपहर 2 बजे के आसपास चेन्नई पहुंचने और शाम 5 बजे के आसपास ममल्लापुरम पहुंचने की उम्मीद है.

शनिवार को दोनों नेता कोव रिसॉर्ट में आमने-सामने बैठक करेंगे और फिर प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता करेंगे. द हिंदू के अनुसार दोनों नेताओं के व्यापार , सीमा संघर्षों और बहुपक्षीय सहयोग के बारे में बात करने की उम्मीद है. हालांकि मोदी और जिनपिंग  से संयुक्त बयान की उम्मीद नहीं है.

 

चेन्नई में चीन के राष्ट्रपति की यात्रा के लिए बड़ी तैयारी की गई है. चेन्नई शहर की सीमा और बाहरी इलाके में प्रमुख मार्ग परिवर्तन की घोषणा करने वाले ट्रैफिक पुलिस के साथ राज्य में सुरक्षा उपायों को भी बढ़ाया गया. शिखर सम्मेलन के दोनों दिन भारी वाहनों के लिए मार्ग बंद कर दिए गए हैं. चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग नेपाल का भी दौरा करेंगे. हालांकि भारत दौरे से पहले बीजिंग ने कश्मीर मुद्दे को हल करने के मामले में संयुक्त राष्ट्र की भूमिका को संदर्भ से हटा दिया था. अब चीन का कहना है कि नई दिल्ली और इस्लामाबाद को सीधी बातचीत से समस्या का समाधान निकालना चाहिए.

मुलाकात के लिए ममल्लापुरम को क्यों चुना ?

एक रिपोर्ट के अनुसार चीन के पूर्व राजदूत और मौजूदा उप विदेश मंत्री लु झाओहुई ने इस मुलाकात के लिए ममल्लापुरम को चुना. कहा गया है कि झाओहुई चीन के विद्वान शु फंचेंग के शिष्य रहे हैं. इस शहर के चीन के साथ ऐतिहासिक रिश्ते रहे हैं. 18वीं सदी में पल्लव राजा और चीन के शासक के बीच सुरक्षा समझौता था. महाबलीपुरम तमिल नाडु की राजधानी चेन्नई से 55 किलोमीटर दूर बंगाल की खाड़ी के तट पर स्थित है. इसे मंदिरों का शहर कहा जाता था. सातवीं शताब्दी में यह शहर पल्लव राजाओं की राजधानी था. 

जिनपिंग की भारत यात्रा से ठीक पहले चीन ने कश्मीर पर बदला अपना रंग, दिया ये बयान

 

First published: 11 October 2019, 11:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी