Home » इंडिया » Mohan Bhagwat: I am not a messenger of the BJP government
 

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत बोले- मैं मोदी सरकार का दूत नहीं हूं

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 August 2016, 9:52 IST
(फाइल फोटो)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा है कि वे केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के दूत नहीं हैं. आगरा में एक कार्यक्रम के दौरान आरएसएस प्रमुख ने यह बयान दिया है.

भागवत ने बयान उस वक्त दिया जब शिक्षकों ने उनसे ढेर सारी शिकायतें और मांगें रखीं. इस पर आरएसएस प्रमुख ने उन्हें सलाह दी कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से संपर्क करना चाहिए.

रविवार को एक दूसरे कार्यक्रम में करीब 2000 युवा दंपतियों को संबोधित करते हुए भागवत ने उनसे पारिवारिक मूल्यों के लिए काम करने और बच्चों में राष्ट्रभक्ति की भावना पैदा करने की अपील की.

आगरा यात्रा के पहले दिन शनिवार को संघ प्रमुख ने विश्वविद्यालयी एवं महाविद्यालयी शिक्षक सम्मेलन में हिस्सा लिया, जहां उत्तर प्रदेश के 11 जिलों के शिक्षक पहुंचे थे. 

जावड़ेकर को खत लिखने की नसीहत

सरसंघचालक ने कहा कि वह शिक्षा के क्षेत्र की समस्याओं से अवगत हैं, लेकिन एनडीए सरकार के प्रतिनिधि नहीं हैं.

भागवत के कार्यक्रम में श्रोताओं में विश्वविद्यालय के शिक्षक और अकादमिक विद्वान भी शामिल थे. शिक्षकों की शिकायतों पर भागवत ने कहा कि आरएसएस एक स्वतंत्र संगठन है और उन्हें अपना मुद्दा सरकार के सामने रखना होगा.

संघ प्रमुख ने कहा, "मैं जानता हूं कि आप सभी सोच रहे होंगे कि मैं सरकार का दूत हूं, लेकिन यह सच नहीं है. मैं पेंशन, कार्यस्थल पर उत्पीड़न एवं अन्य मुद्दों के संबंध में आपकी मदद नहीं कर पाऊंगा."

भागवत ने साथ ही कहा, "मैं आपसे मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिखने का अनुरोध करूंगा." 

'हिंदुओं की आबादी क्यों न बढ़े?'

वहीं हिंदुओं की जनसंख्या के मुद्दे पर उन्होंने कहा, "कौन सा कानून कहता है कि हिंदुओं की जनसंख्या नहीं बढ़नी चाहिए. जब अन्यों की जनसंख्या बढ़ रही है, तो उन्हें कौन रोक रहा है. मुद्दा हमारी व्यवस्था से जुड़ा नहीं है. ऐसा इसलिए है क्योंकि सामाजिक माहौल ऐसा है."

भागवत ने अपने चार दिवसीय प्रवास के तहत आगरा कॉलेज में युवा दंपतियों को संबोधित किया. उनका विभिन्न सामाजिक वर्गों एवं पेशेवरों के समूहों के साथ संवाद का भी कार्यक्रम है.

First published: 22 August 2016, 9:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी