Home » इंडिया » Mohan bhagwat says article 35A and 370 should not be there this is clear agenda of RSS
 

जम्मू-कश्मीर पर मोहन भागवत ने दिया बड़ा बयान, बोले- साफ़ है RSS की विचारधारा

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 September 2018, 8:42 IST
(ANI)

मोहन भागवत ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के तीन दिवसीय कार्यक्रम 'भविष्य का भारत' में जम्मू कश्मीर पर आरएसएस के विचार साझा किये. आरएसएस प्रमुख भागवत ने कश्मीर में अनुच्छेद 370 और 35ए के बारे में सवाल पूछे जाने पर जवाब दिया कि संघ ने कश्मीर के बारे में अपनी सोच को बदला नहीं है. संघ आज भी 370 और 35 ए का विरोध करता है. कश्मीर में ऐसी व्यवस्था नहीं होनी चाहिए.

मोहन भागवत ने आरएसएस के इस विचार को भारतीय जनता पार्टी के चुनावी घोषणा पत्र से जोड़ कर देखा जा सकता है जिसमे 370 को खत्म करने की बात कही गयी थी.

 

इसी के साथ अनुच्छेद 35ए खत्म करने के लिए एक यचिका दायर की गयी थी जिस पर सुनवाई जारी है. इस याचिका को भी बीजेपी नेता अश्विनी उपाध्याय ने दायर किया था. वहीं अगर कश्मीर में मौजूदा राजनीतिक माहौल को देखें तो जम्मू-कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी गठबंधन टूटने का एक बड़ा कारण 35ए को बताया गया था. इसके बाद इस मसले पर महबूबा मुफ्ती ने कहा था कि उन्होंने बीजेपी और पीएम मोदी को धारा 35ए से छेड़छाड़ न करने की अपील की थी. और इस मामले किसी भी तरह के दखल को नहीं सहा जाएगा.

अनेक मुद्दों पर आरएसएस के विचार रखते हुए मोहन भागवत ने कहा कि भारत में वाद-विवाद और संवाद की परंपरा रही है. संघ को लेकर उन्होंने कहा कि अगर संघ को समझना है तो संकीर्ण मानसिकता से बाहर निकलना होगा. भागवत ने आगे कहा कि संघ को समझने के लिए हेडगेवार को जानना समझना जरुरी है.  हिंदुत्व के मुद्दे पर होने कहा कि हिंदुत्व को किसी एक धर्म से जोड़कर नहीं देखना चाहिए ये एक व्यापक विचारधारा है.

First published: 20 September 2018, 8:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी