Home » इंडिया » MOHAN BHAGWAT: WITH POK HOLE KASHMIR IS THE PART OF INDIA
 

मोहन भागवत: पीओके सहित पूरा कश्‍मीर भारत का है

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 October 2016, 11:32 IST
(एजेंसी)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने कहा है कि जम्मू-कश्‍मीर की स्थिति देखकर चिंता होती है, लेकिन हम यह जानते हैं कि पूरा पीओके सहित कश्‍मीर भारत का अभिन्न अंग है.

भागवत ने यह बात नागपुर में दशहरा रैली के मौके पर कही. उन्होंने कहा कि कुछ उपद्रवी वहां का माहौल बिगाड़ने में लगे हुए हैं. वहां के लोगों को विकास का काम नहीं नजर आता है, इसलिए राज्य और केंद्र सरकार को एक नीति पर काम करने की आवश्‍यकता है.

संघ प्रमुख ने कहा कि विकास के साथ-साथ विश्‍वास भी जरूरी होता है. यहां के लोगों के पास राशन कार्ड रोजगार जैसे चीजों का आभाव है. वे चाहते हैं कि जिस प्रकार अन्य राज्यों में लोगों को सुविधाएं दी जाती है उसी प्रकार उन्हें भी सुविधा मिले, जिससे वे दशकों से महरूम हैं.

उन्होंने कहा, "कश्‍मीर के उपद्रवियों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि यहां के लोगों को उकसाने का काम सीमा पार से किया जाता है. यह सभी जानते हैं."

मोदी सरकार की तारीफ

संघ प्रमुख ने कहा कि सीमाओं की सुरक्षा में एक क्षण की भी ढिलाई भारी पड़ सकती है, इसलिए सुरक्षा एजेंसियों सहित सेना को चौकन्ना रहने की जरूरत है. यहां की भौगोलिक स्थिति ऐसी है, जिसका फायदा विरोधी देश उठाते हैं और भारत को अशांत करने में लगे रहते हैं, लेकिन इस सरकार ने बता दिया है कि हम हर प्रकार की स्थिति से निपट सकते हैं. देश का स्वार्थ सर्वोपरि है. पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत ने पाक को पूरे विश्व में अलग-थलग कर दिया है.

मोहन भागवत ने कहा कि संविधान की मर्यादा में गोरक्षा हो, जाति धर्म के आधार पर उत्पीड़न न हो. गोरक्षा में कभी-कभी आंदोलन करना पड़ता है. उन्होंने कहा कि गोरक्षा करने वालों को उसके नाम पर उपद्रव करने वालों से अलग करके देखना होगा. परंपरा और रीति रिवाज के सही आयामों को लेकर भी कुछ लोग भ्रांति फैला रहे हैं.

मोदी सरकार के विरोधियों पर हमला करते हुए भागवत ने कहा कि विरोधी का काम कमियां निकालना है. यह लोकतंत्र की शोभा है. अभी जो शासन है, वह काम करने वाला है, उदासीन रहने वाला नहीं है. जिस ढंग से यह सरकार चल रही है, उससे विश्वास होता है कि देश में बदलाव आएगा.

उन्होंने कहा कि जिनकी दुकान कट्टरता पर चलती है, वे ताकतें भारत को आगे नहीं बढ़ने देना चाहतीं.

First published: 11 October 2016, 11:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी