Home » इंडिया » More Bangladesh's women trafficked to Mumbai brothels, claims NGO
 

मुंबई के वैश्यालयों में सबसे बड़ी संख्या बांग्लादेशी युवतियों की

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 April 2016, 17:14 IST

मुंबई के वैश्यालयों में बांग्लादेश से तस्करी कर लाई जा रही युवतियों की संख्या बढ़ती जा रही है. बृहस्पतिवार को एक संस्था द्वारा यह जानकारी दी गई. 


मानव तस्करी और सेक्स वर्कर्स पर काम करने वाले गैर सरकारी संगठन प्रेरणा द्वारा इकट्ठा किए गए आंकड़ों के मुताबिक मुंबई स्थित कमाठीपुरा के वैश्यालयों में बंगाली बोलने वाली सेक्स वर्कर्स की संख्या बेतहाशा बढ़ती जा रही है. इनमें कई महिलाएं पश्चिम बंगाल की भी हैं.

sex trafficking .jpg

प्रेरणा की सह संस्थापिका प्रीति पाटकर ने कहा, "बांग्लादेश से आने वाली महिलाओं की संख्या में बढ़ोतरी का ब्यौरा तस्करों की सक्रियता बताता है. यह महिलाएं इतनी तंगी में रह रही हैं कि उन्हें अच्छे जीवन और नौकरी का लालच देकर फंसाया जा सकता है."

पढ़ेंः कमाठीपुरा की गलियों में पढ़ाने वाली रॉबिन दुनिया की टॉप 10 शिक्षकों में शामिल

आंकड़ों के मुताबिक प्रेरणा के नाइट केयर सेंटर में 2010-15 के बीच 213 बच्चों ने पंजीकरण कराया, जिनमें से 128 की मां बंगाली बोलने वाली थीं. शहर के अन्य हिस्सों में भी इसी तरह की बढ़त हो रही है. इसके अलावा इनमें उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश से भी करीब एक-एक दर्जन शामिल थे.


आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक भारत में बांग्लादेश मूल के 30 साल से ज्यादा लोग हैं. जबकि चोरीछिपे सैकड़ों लोग आ जाते हैं. अक्सर 4000 किलोमीटर लंबी सीमा को पार कराने के लिए तस्कर या एजेंट लगे रहते हैं. यह तस्कर गरीब, ग्रामीण समुदायों को बेहतर नौकरी और जीवन का लालच देकर फंसा लेते हैं.

sex slave.jpg

पाटकर के मुताबिक बांग्लादेश से आने वाली महिलाएं बहुत डरी और अशिक्षित होती हैं, जिसके चलते वो किसी तरह की सहायता मांगने से कतराती हैं. भारत ने 2015 में बांग्लादेश के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर कर तस्करों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई, जांच और उनकी जानकारी साझा करने की संधि की थी. 

पढ़ेंः ISIS को तबाह करने के लिए पूर्व सेक्स गुलाम महिलाओं ने फीमेल बटालियन बनाई

इस सप्ताह पहली बार ढाका से भेजे गए एक वीडियो के बाद एक बांग्लादेशी तस्कर को दोषी करार दिया गया. इस वीडियो में एक महिला थी जो मुंबई के वैश्यालय से बचकर वापस बांग्लादेश पहुंचने में सफल रही थी. जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई की.

First published: 1 April 2016, 17:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी