Home » इंडिया » more than 60 percent twitter followers of pm modi, rahul gandhi and amit shah are fake
 

ट्विटर पर पीएम मोदी, राहुल गांधी और अमित शाह के 60 फीसदी फॉलोअर्स फेक

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 March 2018, 12:28 IST

सोशल मीडिया पर राजनेताओं की सक्रियता ने उनकी लोकप्रियता में बढ़ोतरी की है. इसीलिए अब राजनेताओं की लोकप्रियता उनकी सोशल मीडिया पर फॉलोइंग से भी पता चलती है. ट्विटर पर दुनियाभर के सभी नेताओं की अपनी-अपनी लोकप्रियता है. यहां लाखों लोग अपने प्रिय नेता को फोलो करते हैं. लेकिन ट्विटर पर मौजूद नेताओं के तमाम फॉलोअर्स के फेक होने की भी बात सामने आई है.

पीएम नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जैसे कई दिग्गज नेताओं के 60 फीसदी से भी ज्यादा फॉलोअर्स फेक हैं. टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार द्वारा कराए गए ट्विटर ऑडिट से ये बात सामने आई है कि देश के शीर्ष नेताओं के कितने ट्विटर फॉलोअर फेक हैं.

टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार के कई महीने पहले किए गए अकाउंट्स ऑडिट में चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है. अखबार के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के 61 लाख 15 हजार फॉलोअर हैं, जिनमें से 69 फीसदी फेक हैं. वहीं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के 67 फीसदी फॉलोअर्स फेक हैं. शाह के ट्विटर पर 1 करोड़ से ज्यादा फॉलोअर्स हैं. वहीं कांग्रेस नेता शशि थरूर के भी 62 फीसदी फॉलोअर फेक हैं. 

ट्विटर पर पीएम मोदी के 61 फीसदी फॉलोअर्स फेक 
ट्विटर पर फेक फॉलोअर्स के मामले में पीएम मोदी चौथे स्थान पर हैं. पीएम मोदी के 61 फीसदी फॉलोअर्स फेक हैं. वहीं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के 50फीसदी के अधिक फॉलोअर्स फेक हैं. वहीं साउथ के सुपर स्टार रजनीकांत के 26 फीसदी ट्विटर फॉलोअर्स फेक हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति के 26 फीसदी फॉलोअर्स फर्जी
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्र्प के 26 फीसदी ट्विटर फॉलोअर्स फेक हैं. वहीं ईसाइयों के सबसे बड़े धर्मगुरु पोप फ्रांसिस के भी 48 फीसदी ट्विटर फॉलोअर्स फेक हैं. हिलेरी क्लिंटन के भी 31 फीसदी ट्विटर फॉलोअर्स फेक हैं.

कैसे काम करता है ट्विटर ऑडिट?
ट्विटर ऑडिट की वेबसाइट के मुताबिक इस टूल द्वारा 5,000 फॉलोअर्स का सैंपल लिया जाता है. उसके बाद उनका ट्वीटस, फॉलोअर्स, म्युचूअल फॉलोज और अन्य पैरामीटर्स के आधार पर आकलन किया जाता है. इससे पता चलता है कि कितने ट्विटर फॉलोअर फेक हैं और कितने वास्तविक. हालांकि यह एकदम सटीक तरीका नहीं है, लेकिन काफी हद तक इससे हकीकत पता चल सकती है.

First published: 14 March 2018, 12:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी