Home » इंडिया » More than thirty year old student would not take admission in llb course
 

बार काउंसिल: 30 साल से ज्यादा उम्र के नहीं ले पाएंगे लॉ कॉलेज में दाखिला

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 September 2016, 14:14 IST
(पत्रिका)

अब 30 साल से ज्यादा उम्र के लोग वकील नहीं बन पाएंगे. बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने मद्रास हाई कोर्ट के आदेश पर तीन साल के लॉ डिग्री कोर्स के लिए अधिकतम उम्र सीमा 30 साल और पांच साल के कोर्स के लिए अधिकतम 20 साल निर्धारित की है.

इस संबंध में जारी सर्कुलर के मुताबिक पांच साल के इंटीग्रेटेड कोर्स में दाखिला लेने की अधिकतम उम्र घटाकर 20 साल की जा रही है. तीन साल के डिग्री कोर्स में अधिकतम 30 साल की आयु वालों को दाखिला मिलेगा. इससे ज्यादा उम्र होने पर आवेदन नहीं किया जा सकेगा. यह सर्कुलर 17 सितंबर को जारी किया गया.

हाल ही में मद्रास हाईकोर्ट ने अधिकतम उम्र सीमा में कटौती का आदेश दिया था. इस आदेश को लागू करते हुए बार काउंसिल ने ऐसा फैसला लिया है. काउंसिल ने नियमों का हवाला देते हुए कहा कि लीगल एजुकेशन रूल्स 2008 के क्लॉस 28 के अनुसार, अधिकतम आयु 30 से ज्यादा नहीं होनी चाहिए. 

गौरतलब है कि दस दिन पहले बीसीआई ने अधिकारियों के साथ अहम बैठक की थी. इसमें राज्यों को दाखिले की आयु पर फैसला लेने की छूट दी गई थी. लेकिन राज्यों ने अपने कॉलेजों के दाखिले के नियमों में आयु को लेकर स्पष्ट जानकारी नहीं दी थी. इसके बाद बीसीआई ने सर्कुलर जारी कर इस नियम को लागू करने के लिए कहा है.

17 सितंबर 2016 को काउंसिल द्वारा जारी सर्कुलर का विरोध हो रहा है. एक कॉलेज के प्रिंसिपल के मुताबिक एडमिशन की ज्यादातर प्रक्रिया पूरी कर ली गई है. बार काउंसिल के इस सर्कुलर से उन छात्रों को अब दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है जो इस उम्र सीमा को पार कर चुके हैं.

उधर, बीसीआई के वरिष्ठ अधिकारी सतीश देशमुख का कहना हैं कि काउंसिल कभी भी नियमों में ढिलाई के पक्ष में नहीं रहा है. अगर कोई कॉलेज इसका पालन नहीं करता है तो दाखिले के चार माह बाद सभी जगह निरीक्षण किया जाएगा. उल्लंघन करने पर कॉलेजों पर कार्रवाई की जाएगी.

First published: 23 September 2016, 14:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी