Home » इंडिया » Most favoured nation, MFN status to Pakistan stands revoked after pulvama attack in CCS meeting
 

पुलवामा हमला: पाकिस्तान से वापस लिया MFN दर्जा, जानें क्या होगा इस ऐक्शन का असर

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 February 2019, 15:12 IST

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत सरकार ने कड़ा कदम उठाते हुए पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN) का दर्जा छीन लिया है. पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आज हुई सुरक्षा पर कैबिनेट कमिटी (CCS) की बैठक में यह बड़ा फैसला लिया गया है. एक घंटे तक चली उच्चस्तरीय बैठक में पाकिस्तान और आतंकियों को सबक सिखाने के लिए कई तरह की रणनीतियों पर सहमति बनी. भारत ने पाकिस्तान को 1996 में मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा दिया था. पाकिस्तान सालों से इसका व्यापारिक फायदा उठाता आ रहा है. बता दें कि सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हो गए और कई जवान बुरी तरह से जख्मी हैं जिनका इलाज चल रहा है.

क्या है मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN)


MFN यानि मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा विश्व व्यापर संगठन (WTO) के सदस्य राष्ट्र एक दूसरे देश को देते हैं. यह एक खास दर्जा होता है जिसमें MFN देश को भरोसा दिलाया जाता है कि उसके साथ भेदभाव रहित व्यापार किया जाएगा. जब किसी देश को यह स्टेटस दिया जाता है तो उसे कई तरह के टैक्स में छूट मिलती है. इसके साथ ही उन दोनों देशों के बीच कई वस्तुओं का आयात और निर्यात भी बिना किसी शुल्क के होता है और कई समानों पर आयात-निर्यात में विशेष छूट मिलती है.

MFN दर्जा वापस लेना मतलब पाकिस्तान को बड़ा झटका

भारत ने पाकिस्तान को मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा 1996 में दिया था लेकिन पाकिस्तान ने अब तक भारत को MFN का दर्जा नहीं दिया है. पाकिस्तान अब तक MFN दर्जे का एकतरफा फयदा उठाता रहा है लेकिन भारत द्वारा दर्जा वापसी का फैसला पाक के लिए बड़ा झटका है और निश्चित तौर पर इससे उसे भारी आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ेगा. इस निंदनीय आतंकी हमले के बाद भारत, पूरे विश्व में पाकिस्तान की आर्थिक नाकाबंदी करने की तैयारी में है जिसके संकेत वित्त मंत्री अरुण जेटली ने दिए हैं.

भारत-पाकिस्तान का कुल व्यापार साल जबकि 2016-17 में यह 2.27 बिलियन यूएस डॉलर था जबकि 2017-18 में बढ़कर 2.41 बिलियन यूएस डॉलर हो गया. भारत ने साल 2017-18 में $ 488.5 मिलियन का सामान आयात किया और उस वित्त वर्ष में $ 1.92 बिलियन का माल निर्यात किया. पाकिस्तान को इस व्यापार से कई तरह के टैक्स में छूट मिली और अरबों रूपये का फायदा हुआ. अब जब मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN) का दर्जा वापस ले लिया गया है, पहले से कर्ज में डूबे पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पर इसका सीधा और नकारात्मक असर देखने को मिलेगा.

First published: 15 February 2019, 15:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी