Home » इंडिया » Most Powerful Electric Locomotive Rail Engine launches in Bihar by PM Modi, know the Facts
 

12,000 हॉर्सपावर के रेल इंजन से बढ़ेगी रेलवे की ताकत, जानें इससे जुड़ी खास बातें

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 April 2018, 14:10 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को बिहार के मोतिहारी में एक जनसभा को संबोधित किया. इससे पहले पीएम मोदी ने कई परियोजनाओं का शुभारंभ किया. जिसमें देश में विकसित किए गए 12,000 हॉर्सपावर की क्षमता वाला रेल इंजन भी शामिल है. इस इंजन के रेलवे में शामिल होने से रेलवे की ताकत तो बढ़ेगी ही. साथ ही यात्रियों को भी इससे बहुत लाभ मिलेगा.

ये हैं देश के सबसे ताकतवर रेल इंजन की खास बात

पीएम मोदी ने मंगलवार को 12,000 हॉर्सपावर क्षमता वाला इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव रेल इंजन देश को समर्पित किया. ये देश का पहला इतनी क्षमता वाला रेल इंजन है. इससे पहले रेलवे के पास सबसे ताकतवर इंजन सिर्फ 6000 हॉर्सपावर वाला था. इस रेल इंजन से ट्रेनों की तफ्तार तेज होगी. साथ ही माल ढुलाई की क्षमता भी बढ़ेगी.

इस इंजन के आने से भारत उन देशों की सूची में शामिल हो गया. जिनके पास 12,000 हॉर्सपावर क्षमता वाले रेल इंजन मौजूद हैं. बता दें कि अभी तक रूस, चीन, जर्मनी और स्वीडन जैसे देशों के पास ही इतनी क्षमता वाले रेल इंजन थे. लेकिन अब भारत भी इस फेहरिस्त में शामिल हो गया.

प्रतिघंटा अधिकतम 110 किलोमीटर की रफ्तार से भारी ढुलाई करने में सक्षम रेल इंजन मालगाड़ियों की रफ्तार और उनके माल ढुलाई की क्षमता में सुधार करेगा. यानि इस रेल इंजन के आने से रेलवे की रफ्तार और तेज हो जाएगी. इस इंजन को मधेपुरा कारखाने में फ्रांसीसी कंपनी एल्सटॉम के साथ मिलकर बनाया गया है. अगले 11 सालों में 800 उन्नत हॉर्सपावर वाले रेल इंजन बनाए जाएंगे.

ये रेल इंजन 100 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने में सक्षम है. विशेष क्षमताओं के कारण भारतीय रेल इस इंजन का इस्तेमाल डेडिकेटेड फ्रेट कॉरीडोर के लिए करेगी. इससे कम समय में देश के एक स्थान से दूसरे स्थान तक माल की ढुलाई हो सकेगी.

बिहार के मधेपुरा में बनी ये रेल इंजन फैक्ट्री देश की सबसे आधुनिक फैक्ट्री है. फैक्ट्री के निर्माण में ऑल्स्टम कंपनी ने 74 प्रतिशत राशि का निवेश किया है, वहीं भारतीय रेलवे की इस फैक्ट्री में 26 प्रतिशत हिस्सेदारी है. 260 एकड़ में फैली इस फैक्ट्री में अभी 70 लोग काम कर रहे हैं. 25 प्रतिशत की दर से हर साल इसमें कार्मिकों की संख्या बढ़ाने का लक्ष्य रखा गया है.

ये भी पढ़ें- क्या डेटा लीक होने के बाद Facebook यूजर्स से सचमुच रिश्ते बदल रहा है ?

First published: 10 April 2018, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी