Home » इंडिया » MP: CM Shivraj returned government bungalows to uma bharti, babulal and kailash joshi termed them 'Dignitaries'
 

मध्यप्रदेश: शिवराज दिग्विजय सिंह को छोड़ उमा भारती समेत कई पूर्व मुख्यमंत्रियों पर हुए मेहरबान

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 July 2018, 13:51 IST

मध्यप्रदेश सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्रियों से खाली कराए सरकारी बंगलों को वापस देने का फैसला किया है. शिवराज सरकार ने पूर्व सीएम उमा भारती, बाबूलाल गौर और कैलाश जोशी को उनके सरकारी बंगले लौटाने का फैसला किया है. इन तीनों को ये सरकारी बंगले बतौर गणमान्य नागरिक लौटाए जाएंगे. हालांकि इस सूची में कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को जगह नहीं मिली है.

ये भी पढ़ें- UP के बाद MP के इन 4 पूर्व मुख्यमंत्रियों को खाली करना होगा सरकारी बंगला

पूर्व सीएम के सरकारी बंगलों के आवंटन को रद्द करने का फैसला जबलपुर कोर्ट के आदेश पर किया गया था. लेकिन सरकार को बंगले वापस दिलाने के लिए एक नया रास्ता मिल गया है. गौरतलब है कि दोबारा सेमिले इन सरकारी बंगलों का अब किराया भरना होगा. पूर्व मुखयमंत्री और बीजेपी विधायक बाबूलाल ने इस फ़ैसले को सही बताया है. वहीं कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी ने आरोप लगाया है कि ये कोर्ट के आदेश का उल्लंघन है.

ये भी पढ़ें- बंगला विवाद: प्रेस कांफ्रेंस में टोटी लेकर पहुंचे अखिलेश, बोले- हम लैपटॉप बांटते हैं वो टोटीचोर कहते हैं 

क्या था पूरा मामला

जबलपुर हाईकोर्ट में एक याचिका दायर कर कहा गया कि प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री नियम के विरुद्ध सरकारी आवासों में रह रहे हैं. याचिका में पूर्व मुख्यमंत्रियों को आजीवन सरकारी आवास देने वाले प्रावधान को चुनौती दी गई. याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने शिवराज सरकार को पूर्व मुख्यमंत्रियों को मिले सरकारी बंगले खाली कराने का आदेश दिया था. हाईकोर्ट ने अपने आदेश में कहा था कि राज्य सरकार एक महीने के अंदर पूर्व मुख्यमंत्रियों को मिले सरकारी बंगले खाली कराए.

ये भी पढ़ें- सरकारी बंगला कब्जाए रखने के लिए मायावती ने चला पैंतरा, SC ने खाली करने का दिया था आदेश

शिवराज सरकार द्वारा पूर्व सीएम को मिले बंगले का आवंटन रद्द करने का फैसला लिया गया जिसके बाद कैलाश जोशी, बाबूलाल गौर, उमा भारती और दिग्विजय सिंह को सरकारी बंगले खाली करने पड़े थे.

First published: 28 July 2018, 13:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी