Home » इंडिया » MP Election 2018: Akhilesh break alliance with congress, mayawati also left, rahul gandhi has to fight election alone
 

MP चुनाव 2018: मायावती के बाद अखिलेश ने भी छोड़ा कांग्रेस का साथ, छह सीटों पर अपने उम्मीदवारों का किया ऐलान

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 October 2018, 7:54 IST

चुनाव आयोग ने मध्यप्रदेश समेत 4 विधानसभा चुनावों की तारीख का ऐलान कर दिया है. चुनाव आयोग ने राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना विधानसभा चुनाव की तारीखों को लेकर महत्वपूर्ण ऐलान किया है. 15 दिसंबर से पहले इन पांचों राज्यों में चुनाव प्रक्रिया पूरी हो जाएगी. इधर चुनावी सरगर्मी में पहले ही बसपा प्रमुख मायावती कांग्रेस का साथ छोड़ चुकी है. अब मध्य परदेश चुनाव के लिए कांग्रेस को सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने बड़ा झटका दिया है.

अखिलेश यादव ने मध्यप्रदेश छुइनावों में कांग्रेस का साथ छोड़ने की बात कही. उन्होंने शनिवार को कहा, ''हमने कांग्रेस के लिए काफी इंतजार किया है, लेकिन अब मध्य प्रदेश चुनावों को लेकर बीएसपी और जीजीपी (गोंडवाना गणतंत्र पार्टी) से बात करनी होगी.''

सपा और कांग्रेस के अलग होने की बात की पुष्टि शनिवार शाम ही सपा के प्रत्याशियों के ऐलान के साथ हो गई. समाजवादी पार्टी ने मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए छह सीटों के प्रत्याशियों का भी ऐलान कर दिया है.

सपा प्रमुख के कांग्रेस का साथ छोड़ने के पहले ही मायावती ने कहा बसपा और कांग्रेस के साथ एमपी में गठबंधन की संभावना को रद्द कर दिया था. मायावती ने अपने इस फैसले के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराते हुए ऐलान किया था कि राजस्थान और मध्य प्रदेश में बीएसपी अकेले अपने बलबूते चुनाव लड़ेगी.

सपा ने छट सीटों पर उतारे अपने उम्मीदवार

सपा ने मध्य प्रदेश के सीधी विधानसभा सीट से केके सिंह, परसवाड़ा सीट से कंकर मुंजारे, बालाघाट विधानसभा सीट से अनुभा मुंजारे, निवाड़ी सीट से मीरा यादव, पन्ना विधानसभा सीट से दशरथ सिंह यादव और बुधनी सीट से अशोक आर्या को अपना प्रत्याशी घोषित किया है. बुधनी विधानसभा सीट से सूबे के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विधायक हैं.

विश्व हिंदू परिषद ने मोदी सरकार को दी 'डेडलाइन', 2018 के सूर्यास्त के पहले आए राम मंदिर के लिए अध्यादेश

अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा, ''हमने कांग्रेस का बहुत इंतजार किया. उन्होंने कहा कि आखिर हम कितना इंतजार करेंगे? उन्होंने कहा कि अब बीएसपी और जीजीपी से बात कर कांग्रेस के साथ राज्य में गठबंधन पर फैसला लिया जाएगा.''

कांग्रेस को दी नसीहत

सपा प्रमुख ने कांग्रेस को नसीहत देते हुए कहा कि आने वाले विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस को दिल बड़ा करना होगा. इन मामलों में पार्टी को देर नहीं करनी चाहिए. अगर पार्टी इसी तरह देर करती रही तो छोटी पार्टियां राज्य में अपने प्रत्याशी घोषित कर देगी.

First published: 7 October 2018, 7:52 IST
 
अगली कहानी