Home » इंडिया » MP Former Shivraj singh will not be opposition Leader, says RSS
 

चुनाव हारने के बाद शिवराज को एक और बड़ा झटका, इस तरह से पर कतरना चाहता है RSS

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 December 2018, 14:33 IST

देश की पांच विधान सभाओं में हुए चुनाव में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी जीत हासिल नहीं कर पाई. कांग्रेस ने इस बार 15 सालों के वनवास को खत्म करके सत्ता में वापसी की है. आज कांग्रेस के दिग्गज नेता कमलनाथ ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.

वहीं बीजेपी की हार के बाद अब इस बात पर सबकी नजरें तिकी हैं कि कमलनाथ के सामने विपक्ष का नेता कौन बनेगा? विपक्ष के नेता की जिम्मेदारी के लिए इस समय शिवराज सिंह को रेस में सबसे आगे माना जा रहा है. वहीं अगर सूत्रों की मानें तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पूर्व सीएम शिवराज को विपक्ष का नेता बनाने के पक्ष में नहीं है.

सूत्रों की मानें तो इस मामले में बीजेपी में दो फाड़ देखी जा सकती है. राज्य के मंत्री रहे गौरीशंकर बिसेन के साथ ही कुछ भाजपा के नेताओं का मानना है कि शिवराज को विपक्ष की जिम्मेदारी सौंपनी चाहिए. वहीं दूसरी तरफ आरएसएस और कुछ वरिष्ठ नेता चाहते है कि विपक्ष की ये जिम्मेदारी नरोत्तम मिश्रा या गोपाल भार्गव जैसे नेताओं को दी जाए.

ये भी पढ़ें- केवल 3500 रुपए में बेचा जा रहा है आपका निजी डाटा और निजी तस्वीरें

विधानसभा चुनाव में हुई हार को देखें तो कुछ सूत्री का कहना है कि मध्यप्रदेश में भाजपा के नेतृत्व से पार्टी के कई कार्यकर्ता खुश और संतुष्ट नहीं थे. जिसका असर चुनावी परिणाम में देखने को मिला है. इसके साथ ही साथ एक अन्य फैक्टर ये भी देखा जा रहा है कि चुनावों में जिन उच्च जाती के वोटरों ने बीजेपी से डोपोरी दिखाई थी, उनकी नाराजगी को कम किया जा सकेगा. संघ अब लोकसभा चुनाव पर फोकस करना चाहता है इसीलिए सारी रणनीति लोकसभा चुनाव 2019 के लिहाज से बनाई जाने की कोशिश है.

 

First published: 17 December 2018, 14:33 IST
 
अगली कहानी