Home » इंडिया » MP: Ratlam Tahsildar Amita Singh in controversy after anti Rajiv and pro Modi facebook post
 

एमपी: अब राजीव गांधी के खिलाफ महिला अफसर का विवादित पोस्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 June 2016, 12:29 IST

मध्य प्रदेश में अफसरों के सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर मचे विवाद में नया नाम सामने आया है अमिता सिंह का. रतलाम की तहसीलदार अमिता सिंह ने पूर्व पीएम राजीव गांधी पर कथित आपत्तिजनक टिप्पणी की है.

अमिता सिंह ने अपने फेसबुक पोस्ट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए लिखा कि पीएम को 'राजीव गांधी आत्महत्या योजना' शुरू करनी चाहिए. हालांकि विवाद बढ़ने पर उन्होंने अपने फेसबुक वॉल से विवादित पोस्ट को हटाते हुए माफी मांग ली.

'राजीव गांधी आत्महत्या योजना'

अमिता ने अपने फेसबुक वाॅल पर लिखा था, "भारत के प्रधानमंत्री मोदी जी कल अफगानिस्तान गए, मुसलमान लोगों ने भारत के झंडे लेकर सड़क पर ‘वंदे मातरम्’ एवं ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाए.

मोदी जी को अफगानिस्तान के सर्वोच्च नागरिक का सम्मान दिया गया. मुसलमान बच्चों ने संस्कृत में नरेंद्र मोदी जी के सम्मान में संस्कृत श्लोक बोले.

प्रधानमंत्री मोदी जी से अनुरोध है अगले साल आम बजट के दौरान एक 'राजीव गांधी आत्महत्या योजना' शुरू करें, ताकि सेक्युलर और कांग्रेसी विचार वाले ऐसी खबर सुनकर आत्महत्या कर सकें !"

पढ़ें: एमपी: तबादले पर आईएएस गंगवार बोले, नेहरू की तारीफ वैचारिक मुद्दा

अमिता के इस पोस्ट का सोशल मीडिया में काफी विरोध हुआ. हालांकि रतलाम की तहसीलदार अमिता ने इस पर सफाई देते हुए कहा कि उनके व्हाट्स एप ग्रुप पर यह मैसेज आया था. इसलिए उन्होंने इसे फेसबुक पर डाल दिया.

अमिता सिंह ने कहा पूर्व आईएएस अफसर अखिलेंदु अरजरिया ने बात का बतंगड़ बना दिया. लिहाजा किसी को बुरा न लगे, इसलिए मैंने माफी मांग ली है.

अमिता को प्रमोशन मिलेगा?

दरअसल पूर्व आईएएस अफसर ने फेसबुक पर तहसीलदार अमिता सिंह की टिप्पणी को पोस्ट करते हुए सवाल उठाए थे. अखिलेंदु अरजरिया ने पूछा, "कलेक्टर बड़वानी अजय गंगवार की फेसबुक पोस्ट को आचरण नियम का उल्लंघन मान कर उन्हें कलेक्टर पद से हटा दिया गया और राज्य शासन ने उन्हें नोटिस दिया है.

पढ़ें: पीएम के खिलाफ सोशल कमेंट पर आईएएस अजय गंगवार को नोटिस

रिटायर्ड आईएएस अधिकारी ने आगे लिखा, "मध्य प्रदेश की एक तहसीलदार की फेसबुक पोस्ट प्रस्तुत है. इसे पढ़कर क्या शासन उन्हें आउट ऑफ टर्न प्रमोशन देगा?"

पूर्व आईएएस अफसर अखिलेंदु अरजरिया का फेसबुक पोस्ट (फेसबुक)

आईएएस गंगवार को मिला था नोटिस

इससे पहले बड़वानी के कलेक्टर अजय गंगवार को नेहरू की तारीफ करने वाले फेसबुक पोस्ट पर तबादले की सजा मिली थी. उन्हें भोपाल सचिवालय में डिप्टी सेक्रेटरी के पद पर तैनात कर दिया गया.

दरअसल अजय गंगवार ने देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की तारीफ करते हुए लिखा था कि नेहरू ने आजादी के बाद देश को हिंदू तालिबान बनने से रोका था. साथ ही गंगवार ने कहा था कि नेहरू के बारे में जानने का नई पीढ़ी को हक है.

पढ़ें: नेहरू की तारीफ पर एमपी में कलेक्टर का तबादला

आईएएस अफसर अजय गंगवार को पीएम मोदी के खिलाफ सोशल मीडिया पर शेयर किए गए एक लेख को लाइक और टिप्पणी करने के आरोप में नोटिस भी जारी किया गया है. इसमें कथित तौर पर लिखा गया कि मोदी के खिलाफ जनक्रांति होनी चाहिए.

राज्य सरकार से नोटिस मिलने के बाद नाराज अजय गंगवार छुट्टी पर चले गए थे. सरकार की ओर से 30 मई को जारी नोटिस में कहा गया है कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरुद्ध जनक्रांति की बात करते हुए एक पोस्ट पर कमेंट किया है, जो सर्विस कोड ऑफ कंडक्ट का उल्लंघन है.

वहीं अजय गंगवार ने सफाई देते हुए कहा था कि उन्होंने किसी भी तरह से सर्विस नियम का उल्लंघन नहीं किया है. गंगवार ने कहा, "नोटिस का जवाब दिया जाएगा. मैंने सरकार के खिलाफ कुछ भी नहीं किया है."

आईएएस अफसर अजय गंगवार का फेसबुक पोस्ट (फेसबुक)
First published: 8 June 2016, 12:29 IST
 
अगली कहानी