Home » इंडिया » Mukhtar Ansari meet Shivpal Yadav says Quami Ekta Dal will not merge in SP, alliance must be consider
 

शिवपाल से मुलाकात के बाद बोले मुख्तार अंसारी, सपा में विलय नहीं गठबंधन को राजी

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 August 2016, 17:16 IST
(पीटीआई)

यूपी में कौमी एकता दल और समाजवादी पार्टी का विलय नहीं होगा. बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी ने इसके साफ संकेत दिए हैं.

यूपी विधानसभा के सत्र की कार्यवाही में हिस्सा लेने के बाद कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव और मुख्तार अंसारी  के बीच करीब आधे घंटे तक बातचीत हुई. इस मुलाकात के बाद मुख्तार अंसारी ने मीडिया को बताया कि कौती एकता दल सपा में विलय नहीं करेगी.

साथ ही मुख्तार ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी कौमी एकता दल किसी भी राजनीतिक दल में विलय के लिए तैयार नहीं है. वहीं, मुख्तार ने सपा के साथ गठबंधन करने की बात पर सहमति जताई है. 

अखिलेश-शिवपाल में अनबन!

बीते दिनों शिवपाल यादव की नाराजगी को देखते हुए ये कयास लगाए जा रहे थे कि कौमी एकता दल का सपा में विलय करीब-करीब तय है. वहीं, सीएम अखिलेश यादव पार्टी के इस फैसले से नाराज बताए जा रहे थे.

सीएम अखिलेश यादव ने मीडिया को भी बयान देते हुए कहा था कि मुख्तार जैसे आपराधिक लोगों की सपा में कोई जगह नहीं है.

कौमी एकता दल के सपा में विलय को लेकर मुलायम सिंह यादव के परिवार में विवाद की खबरें आई थीं. हालांकि अखिलेश यादव ने खुद कहा था कि मीडिया चाचा और भतीजे को लड़ा रहा है, जबकि ऐसा कुछ भी नहीं है. 

2012 में बना कौमी एकता दल

बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी साल 1996 में मऊ सीट से बसपा के टिकट पर विधायक चुने गए थे. साल 2002 और 2007 के विधानसभा चुनाव में भी निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर मुख्तार ने जीत हासिल की.

साल 2012 के विधानसभा चुनाव से पहले मुख्तार ने कौमी एकता दल का गठन किया. कौमी एकता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुख्तार के बड़े भाई और पूर्व सांसद अफजाल अंसारी हैं, जबकि उन्हीं के सबसे बड़े भाई सिगबतुल्लाह अंसारी मुहम्मदाबाद सीट से कौमी एकता दल के विधायक हैं.

First published: 23 August 2016, 17:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी