Home » इंडिया » Mukhtar Ansari's Qaumi Ekta Dal will not merge with SP
 

मुख्तार और उनकी पार्टी सपा में शामिल नहीं किए जाएंगेः राम गोपाल यादव

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 June 2016, 18:06 IST
(कैच न्यूज)

कौमी एकता दल के समाजवादी पार्टी (सपा) में विलय को लेकर समाजवादी पार्टी ने यू-टर्न ले लिया है.  शनिवार को पार्टी महासचिव रामगोपाल यादव ने कहा कि ये विलय नहीं होगा और मुख्तार अंसारी सपा में शामिल नहीं होंगे.

खबरों के अनुसार लखनऊ में सपा के संसदीय बोर्ड की बैठक में ये फैसला लिया गया. बैठक में बर्खास्त किए गए मंत्री बलराम यादव की अखिलेश यादव कैबिनेट में वापसी का भी निर्णय लिया गया.

मुख्तार अंसारी और अफजाल अंसारी ने 2010 में कौमी एकता दल का गठन किया था. पार्टी के यूपी में दो विधायक हैं. जेल में बंद मुख्तार अंसारी मऊ सदर से विधायक हैं. वहीं उनके छोटे भाई सिबगतुल्लाह अंसारी गाजीपुर जिले के मोहम्मदाबाद से विधायक हैं. 

इससे पहले यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने कौमी एकता दल के विधायक और माफिया सरगना मुख्तार अंसारी के मामले में कड़ा रुख अपनाया था. अखिलेश ने कहा कि वो मुख्तार अंसारी को समाजवादी पार्टी में शामिल नहीं होने देंगे.

एक टेलीविजन चैनल के कार्यक्रम के दौरान अखिलेश यादव ने यह बयान दिया. अखिलेश ने साथ ही कहा कि मुख्तार अंसारी का समाजवादी पार्टी में स्वागत नहीं है.  

गौरतलब है कि कौमी एकता दल के सपा में विलय से सीएम अखिलेश नाराज थे. इस विलय के सूत्रधार रहे बलराम यादव को अखिलेश ने फौरन अपने कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखा दिया था. 

First published: 25 June 2016, 18:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी