Home » इंडिया » Mulayam Singh regrets on firing on car sewaks in Ayodhya
 

कारसेवकों पर गोली चलवाने का अफसोस है: मुलायम सिंह यादव

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 January 2016, 18:23 IST

25 साल बाद समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव नेेे अब बाबरी विध्वंस के दौरान अयोध्या में कारसेवकों पर गोली चलवाने के स्वयं के आदेश पर दुख जताया है. मुलायम ने कहा कि मुख्यमंत्री होने के नाते मजबूरन मुझे 1990 में अयोध्या में गोली चलवानी पड़ी थी.

अब इस बयान को चुनाव की सुगबुगाबट कहें या कुछ और लेकिन सपा मुखिया ने इस घटना के ढाई दशक बाद अपनी चुप्पी तोड़ी. वहीं, इस बयान पर समाजवादी पार्टी के ही नेता अबू आजमी ने आलोचना करते हुए कहा कि उस वक्त जो भी हुआ वो संविधान के अनुसार हुआ और इसमें कुछ भी गलत नहीं है.

Babri Mosque/Live/Patrika

बाबरी विध्वंस के दौरान अयोध्या में जमा कारसेवकों पर फायरिंग के आदेश पर मुलायम सिह ने कहा है कि इस घटना के बाद उन्होंने नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे दिया था. मस्जिद बचाने के लिए मुझे गोली चलवानी पड़ी थी जिसमें 16 लोगों की जानें चली गई थीं. वे समाजवादी पार्टी नेता कर्पूरी ठाकुर की जयंती के मौके पर सपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे.

इतना ही नहीं उस दौरान संसद में विपक्ष के नेता अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा दिए गए बयान पर भी जवाब देते हुए मुलायम सिंह ने कहा कि अटलजी ने उनसे कहा था हमनें 16 लोगों को मरवा दिया. 

मुलायम सिंह ने अपने 1990 के फैसले को सही ठहराते हुए कहा कि धर्मस्थल को बचाना मेरी जिम्मेदारी थी. लिहाजा मजबूरन गोली चलवानी पड़ी थी. धार्मिक स्थल बचाने के लिए अगर और लोगों की भी जान जाती तो मैं करता, इसलिए नैतिकता के आधार पर मैंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. लेकिन जिन लोगों की जान गई उसका मुझे अफसोस है.

First published: 25 January 2016, 18:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी